1_1478527159

लखनऊ. दिल्ली समेत यूपी के अधिकांश क्षेत्रों में धुंध की छाई जहरीली चादर पाकिस्तान से आ रही है। यहीं धुंध पाकिस्तान के कई इलाकों में छाई है और उनका दावा है कि बार्डर से जुड़े पंजाब इलाके से जहरीली धुंध को भारत भेज रहा है। हालांकि मौसम वैज्ञानिकों का कहना है कि धुंध हवा के साथ उत्तर-पश्चिम की तरफ से आ रही है। यह एरिया पाकिस्तान में पड़ता है।
उत्तरी इलाके में नहीं है जहरीली धुंध
मौसम विभाग के डायरेक्टर जेपी गुप्ता ने बताया कि यूपी के उत्तरी पश्चिमी इलाके में पिछले दो दिन से आसमान पर काले रंग की धुंध छाई हुई है।

यह कोहरा नहीं बल्कि स्मॉग है। स्मॉग प्रदूषण के चलते बनता है और तापमान पर भी असर पड़ता है।

यह सांस के रोगियों के साथ बुर्जुग और बच्चों के लिए खतरनाक साबित हो सकता है।

हालांकि स्मॉग का असर उत्तरी इलाके यानि पहाड़ी क्षेत्र में बिल्कुल नहीं है।

कैसे बनता है स्मॉग
हवा में नमी के कारण कोहरे का बादल बनता है।

प्रदूषण के चलते उस कोहरे के बादल पर कण चिपक जाते है।

जिसके चलते वह स्मॉग बन जाता है। और हवा के साथ इसका स्वरुप बढ़ता जाता है।

दिल्ली और यूपी के कई इलाकों में उत्तर-पश्चिम की तरफ से ही स्मॉग आ रहा है।
2 दिन तक रह सकती है मुसीबत
जेपी गुप्ता ने बताया कि राजधानी समेत यूपी के उत्तरी इलाके में स्मॉग से परेशानी दो दिन तक रह सकती है।

जब तक तेज हवा नहीं चलती है तब तक यह स्मॉग पूरी तरह नहीं जा सकता है। इससे तापमान पर भी असर पड़ेगा।

दिल्ली में बढ़ती मुसीबत को देखते हुए दिल्ली सरकार ने स्मॉग से छुटकारा पाने के लिए अप्रकृतिक बारिश कराने के लिए केंद्र सरकार को लिखा है।

राजधानी का प्रदूषण 6 से 8 गुना बढ़ा
उत्तरी यूपी समेत राजधानी इलाके में स्मॉग के चलते प्रदूषण आम दिनों की अपेक्षा 6 से 8 गुना तक बढ़ गया है।

जिससे सांस के रोगी समेत बुजुर्ग और बच्चों के लिए परेशानी हो सकती है।

मरीजों को खासतौर से दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। यही नहीं आम आदमी को भी सांस लेने में दिक्कत महसूस हो रही है।

यूपी में धुंध को लेकर सीएम ने दिया निर्देश, यूपी प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड लगाएगा कारणों का पता

सीएम अखिलेश यादव ने लखनऊ सहित प्रदेश के कई जनपदों में छाई धुंध को गम्भीरता से लेते हुए यूपी प्रदूषण नियन्त्रण बोर्ड और पर्यावरण विभाग को निर्देश दिए हैं कि वे इस धुंध के लिए जिम्मेदार कारणों का शीघ्र पता लगाकर इसका सलूशन बताएं। उन्होंने प्रदूषण की रोकथाम के लिए बनाए गए नियमों का कड़ाई से पालन करने के भी निर्देश दिए हैं।

उन्होंने कूडे़ के निस्तारण की समुचित व्यवस्था करने के साथ उसे जलाने से परहेज बरतने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा है कि यह भी सुनिश्चित किया जाए कि वाहन और जनरेटर आदि प्रदूषण नियन्त्रण के निर्धारित मानकों के अधीन संचालित हों। खेतों में फसलों के अवशेष का निस्तारण इस प्रकार सुनिश्चित कराया जाए कि प्रदूषण के स्तर में बढ़ोत्तरी न हो।

सीएम ने कहा है कि राज्य सरकार पर्यावरण संतुलन के प्रति बेहद संवेदनशील है। प्रदेश में ‘ग्रीन यूपी-क्लीन यूपी‘ कार्यक्रम संचालित किया जा रहा है, जिसके तहत गत जुलाई माह में एक ही दिन में 05 करोड़ पौधों का रोपड़ किया गया है। इसके अलावा सभी जनपदों में 50 एकड़ से लेकर 1000 एकड़ तक के क्षेत्रों का चयन करके वृक्षारोपण कराया गया है तथा उनकी देखभाल सुरक्षा की व्यवस्था भी सुनिश्चित की गई है।

क्या है पीएस
ये हवा में फैले अति सूक्ष्म खतरनाक कण हैं जो हमारे फेफड़ों में भी प्रवेश कर जाते हैं।

2.5 माइक्रोग्राम से छोटे कणों को पार्टिकुलेट मैटर 2.5 या पीएम 2.5 कणों का स्तर जानकर प्रदूषण का आकलन किया जाता हैं।

पीएम 2.5 का लेवल

1 नवंबर- 301.96
2 नवंबर- 222
3 नवंबर- 190.45
4 नवंबर- 183.44
5 नवंबर- 315
6 नवंबर- 508.56
7 नवंबर- मानक 60 (माइक्रोग्राम प्रति घनमीटर में)
(यह सोर्स सेंट्रल पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड से लिया गया है)

कैसे बचे प्रदूषण से
– घर में अगरबत्ती, मास्किटो क्‍वॉयल या ऐसा कुछ न जलाएं जिससे धुआं निकलता हो।

– धुंध रहने पर मास्क का इस्तेमाल करें और बच्चों, बुजुर्गों को इससे बचाएं।

– घर में झाड़ू की बजाए गीले कपड़े का इस्तेमाल करें।

– एक्सरसाइज और व्यायाम घर पर ही करें, बाहर या पार्क में न जाए।

– घर में प्योरीफायर लगा सकते है, इससे घर की आबोहवा ताजा रहेगी।

10 मिनट घूमना, 10 सिगरेट के बराबर प्रदूषण शरीर में लेने के बराबर
– बीते दो दिनों में प्रदूषण लेबल 258 माइक्रोग्राम से बढ़कर 444 तक पहुंच गया है।

– सेंट्रल पाल्यूशन बोर्ड की रिर्पोट के अनुसार सोडियम डाई आक्साइड शहर की हवा में खतरनाक स्तर तक पाया गया है।

– सीपीसीबी के आंकड़ों के मुताबिक अब तक सोडियम ड्राई आक्साइड का लेवल बढ़कर 85.43 माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर तक पहुंच गया है।

– जबकि मानकों के अनुसार इसकी मात्रा अधिकतम 80 माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर होनी चाहिए। ग्रामीण इलाको में इसका असर बढ़ता जा रहा है।

इन उपायों से बचा जा सकता है
– दिन में 3 बार नीबू पानी पीए।

– 40 मिनट बाद आधा लीटर पानी जरूर पीए।

– मास्क पहन कर बाहर निकले।

– आंखों पर काला चश्मा जरूर पहने।

– प्रत्येक एक घंटे बाद ठंडे पानी से आंख को जरूर धोए।

– खाने में अदरक का ज्यादा इस्तेमाल करें।
कूड़ा जलाने पर 5 सौ रुपये वसूला जाएगा जुर्माना
– कूड़े और पत्तियों के जलाने से निकलने वाला धुआंं स्वास्थ्य के लिए काफी खतरनाक होता है।

– वर्तमान में जबकि तापमान कम हो गया है, ऐसी स्थिति में कूड़ा  जलने से निकलने वाला धुआँ कोहरे के कारण ऊपर नहीं जा पाता है।

– वर्तमान स्थित को देखते हुए नगर आयुक्त उदय राज सिंह ने कूड़ा जलाने वालों पर कार्रवाई का निर्देश दिया है।

– कूड़ा जलाते पाये जाने पर 5 सौ रुपये का जुर्माना लगाया जाएगा।

दमा और अस्थमा बढ़ने का खतरा बढ़ा
– वायु प्रदूषण का स्तर कई गुना बढ़ जाता है जिससे सांस लेने में तकलीफ सहित दमा/अस्थमा की बीमारियां बढ़ने का खतरा बढ़ जाता है।

–  इस संबंध में राष्ट्रीय हरित न्यायाधिकरण (नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल) द्वारा वायु प्रदूषण को कम करने के प्रभावी प्रयास करने के निर्देश दिये गये है।
– नगर निगम ने पब्लिक से अपील की है कि वह अपने घर या आसपास कहीं भी कूड़ा न तो स्वयं जलाये और न ही किसी और को जलाने दे।

– कूड़े को जलाने पर जनहित में प्रतिबंध लगाने या अर्थदण्ड लगाये जाने नगर निगम सदन की बैठक दिनांक 31 मार्च, 2016 को पारित किया जा चुका है।

 

कूड़े में आग लगाये जाने की सूचना नगर निगम के इन नंबर पर दें
#कंट्रोल रूम-नगर निगम : 2307782,  2307783, 2307770
# डा. पी.के. सिंह, नगर स्वास्थ्य अधिकारी : 9415607775
#पंकज भूषण, पर्यावरण अभियंता : 9415188957
#अशोक सिंह, जोनल अधिकारी, जोन-1 : 9415609552
#संजय ममगई, जोनल अधिकारी, जोन-2 व 5: 9415609556
# विनय प्रताप सिंह, जोनल अधिकारी, जोन-3 : 9415000115
#अनूप बाजपेई, जोनल अधिकारी, जोन-4 :  9415607791
#बिन्नो रिज़वी, जोनल अधिकारी, जोन-6 : 9415607919
#अरविन्द कुमार राय, जोनल अधिकारी, जोन-7: 9415609553
#सूरज सिंह, जोनल अधिकारी, जोन-8 :  9415607774

पाक का स्मॉग बढ़ा रहा यूपी में मुश्किलें

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-