namaz-newborn 05 11 2016

यह विश्‍वास करना वाकई कठिन है कि लोग आंखें बंद कर धर्म का पालन करते हैं और यहां तक कि वे खुद के बच्‍चे के जीवन से खेलने से भी नहीं हिचकते। एक उपदेशक के निर्देश का हवाला देते हुए केरल में एक पति ने पत्‍नी को नवजात शिशु को एक दिन तक भूखा रखा और उसे स्‍तनपान नहीं कराने दिया। यह घटना कोझिकोड जिले के मुक्‍कोम की है। अबु बकर ने कहा कि नवजात को तभी स्‍तनपान कराया जाए जब मस्जिद में पांच वक्‍त की नमाज पूरी हो जाए यानी 24 घंटे।

इस कपल को अस्‍पताल अधिकारियों ने चेतावनी दी थी कि अगर जन्‍म के बाद उसे तुरंत स्‍तनपान नहीं कराया गया तो बच्‍चा बीमारी का शिकार हो सकता है जिसमें मिर्गी भी शामिल है। लेकिन दूसरी तरफ पिता ने कहा कि उसके बड़े बेटे को भी पांच वक्‍त की नमाज के बाद ही स्‍तनपान कराया गया था और उसे तो कुछ भी नहीं हुआ।

इस शख्‍स ने डॉक्‍टरों की बात नहीं मानी। मां को एक कागज पर हस्‍ताक्षर करने को कहा जिस पर लिखा था कि अगर बच्‍चे को कुछ भी होता है तो अस्‍पताल अधिकारी इसके जिम्‍मेदार नहीं होंगे।

पांच वक्‍त की नमाज तक नवजात को नहीं पीने दिया मां का दूध

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-