चेन्नई। पन्नीरसेल्वम ने विधानसभा में बहुमत साबित करने का दावा किया है। इससे पहले मंगलवार को विवाद तब और बढ़ गया जब पन्नीरसेल्वम ने जयललिता की समाधि पर 40 मिनट ध्यान के बाद आरोप लगाया कि उन पर इस्तीफे को लेकर दबाव बनाया गया है। इसके बाद शशिकला ने पूरे मामले में डीएमके का हाथ होने की बात कही है।

मंगलवार के बाद आज भी सुबह से ही राजनीतिक उठापटक तेज हो गई है। पन्नीरसेल्वम ने जहां मीडिया से बात करते हुए कहा कि अगर समर्थक चाहें तो मैं इस्तीफा वापस लेने के लिए तैयार हूं। वहीं उन्होंने आरोप लगाया कि जब जयललिता अस्पताल में थीं और वो उनसे मिलने जाते थे तो उन्हें एक भी बार अम्मा से मिलने नहीं दिया गया।

उन्होंने सुबह अपने घर पर मीडिया से बात करते हुए कहा कि अम्मा 16 साल तक सीएम रहीं, मैं दो बार सीएम बना जो अम्मा की इच्छा थी। पन्नीरसेल्वम ने आगे कहा कि मैं अपनी ताकत विधानसभा में दिखाऊंगा। राज्यपाल के वापस आते ही मैं उनसे मिलने जाऊंगा। मैं लोगों के बीच जाकर भी अपनी बात रखूंगा। राज्य सरकार को केंन्द्र का समर्थन है और तमिल लोगों के लिए जो भी हमें समर्थन देगा हम लेने के लिए तैयार हैं।

इस पूरे मामले को लेकर भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा है कि शशिकला को जल्द साएम पद की शपथ ले लेना चाहिए क्योंकि इसमें देरी संविधान का उल्लंघन होगा। पूरे मामले में राष्ट्रपति ने भी हस्तक्षेप करना चाहिए।

पन्नीरसेल्वम ने विधानसभा में बहुमत साबित करने का दावा किया

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-