panama-papers_1461737347

पनामा पेपर खुलासे के सामने आने के तीन हफ्ते बाद अब आयकर विभाग ने  दिल्ली के तीन व्या‌पारियों के यहां सर्वे किए हैं, जिनका नाम लॉ फर्म मोसैक फोनसेका के जरिए टैक्स बचाने के‌ लिए विदेश में कंपनियां बनाने में आया था।

आयकर अधिकारियों ने बताया है कि विभाग सबसे पहले उन लोगों का सर्वे कर रही है जिन्होंने अधिकारियों को लिखित में यह बात कही है कि उनका टैक्स बचाने के लिए बनाई गई कंपनियों से कोई लेना देना नहीं है।

आयकर अधिकारियों के अनुसार उनकी जांच पड़ताल मंगलवार को दोपहर में शुरू हुई थी जो देर रात तक चली। अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस में छपी खबर के अनुसार वरिष्ठ अधिकारियों ने इस बात की पुष्टि की है कि जहां सर्वेक्षण किया गया वहां उनके डॉक्यूमेंट्स, कंप्यूटर और लैपटॉप आदि जब्त कर लिए गए हैं।

अधिकारियों ने बताया है कि जिन तीन दिल्ली के व्यापारियों का सर्वे किया गया उनमें से दो तो ऐसे हैं जिन्होंने टैक्स बचाने के लिए ब्रिटिश वर्जिन आईलैंड में कंपनी बनाई थी। वहीं तीसरे व्यापारी ने संयुक्त अरब अमीरात में कंपनी बनाई थी।

इन तीनों ही व्यापारियों से आयकर विभाग ने पहले भी बात की थी। बता दें कि पनामा पेपर खुलासे में जिन लोगों का भी नाम सामने आया है विभाग ने सबको एक स्टैंडर्ड प्रश्नावली का सेट भेजा है। इसके साथ ही कुछ खास प्रश्नों का एक सेट अलग से भी भेजा गया है जिसमें घोषणाएं और अनुमति मांगी गई है।

अब तक आयकर विभाग ने पनामा पेपर में शामिल हु‌ए 160 लोगों की पहचान कर ली है जिनकी स्क्रूटनी करनी है।

पनामा पेपर खुलासे में शामिल 3 दिल्ली व्यापारियों के दरवाजे पर पहुंचा आयकर विभाग

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-