nainital_

कांग्रेस के नौ बागी विधायकों की सदस्यता के मसले पर नैनीताल हाईकोर्ट की एकल पीठ शनिवार का अपना फैसला दे सकती है। इस बीच, शुक्रवार को बागी विधायकों की तरफ से उनके अधिवक्ता ने हाईकोर्ट में याचिका से संबंधित प्रति शपथ पत्र जमा करवाए। बागी विधायकों ने स्पीकर के सदस्यता रद करने के फैसले को चुनौती देते हुए दो याचिकाएं दाखिल की हैं। न्यायमूर्ति यूसी ध्यानी की एकल पीठ में इनकी सुनवाई चल रही है।

पिछले दिनों अदालत ने बागियों को स्पीकर के शपथ पत्र से संबंधित कुछ दस्तावेज दाखिल करने के लिए शुक्रवार तक का समय दिया था। दोपहर बाद बागी विधायकों के अधिवक्ता विकास बहुगुणा ने अदालत में शपथ पत्र दाखिल किया। सूत्रों के अनुसार इसमें बागियों ने उल्लेख किया है कि विधायक भीमलाल आर्य मामले में स्पीकर के स्तर से सुनवाई की तारीख लगातार बढ़ाई जा रही है, जबकि उनके मामले में सात दिन में सदस्यता निरस्त करने का फैसला दे दिया गया। याचिकाओं पर सुनवाई के लिए अदालत ने शनिवार यानि आज की तारीख तय की हुई है।

बीते रोज हाईकोर्ट की खंडपीठ ने राष्ट्रपति शासन हटाने के साथ ही रावत सरकार को बहाल कर 29 अप्रैल तक फ्लोर टेस्ट का आदेश दिया था। हालांकि शुक्रवार को मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंचने के बाद राजनीतिक हालात फिर बदल गए हैं। अब फ्लोर टेस्ट होगा या नहीं, यदि हुआ तो बागी विधायक इसमें भाग ले पाएंगे अथवा नहीं, यह हाईकोर्ट की एकल पीठ के फैसले पर निर्भर करेगा।

चूंकि सदन में वर्तमान में भाजपा और कांग्रेस में से कोई भी अपने बूते बहुत अच्छी स्थिति में नहीं है, इसलिए दोनों को फैसले का बेसब्री से इंतजार है। बता दें कि, खंडपीठ ने बागी विधायकों पर अपने फैसले में तल्ख टिप्पणी की हैं, लिहाजा इन विधायकों के भविष्य को लेकर सियासी हलकों में अटकलों का बाजार भी गर्म है।

 

नौ बागी विधायकों पर आ सकता है फैसला

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-