नोटबंदी के फैसले के बाद ई-ट्रांजेक्शन के मामले में उत्तर भारत के राज्यों के मुकाबले दक्षिण भारत के राज्य आगे रहे। इलेक्ट्रॉनिकी व सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के मुताबिक, गत 8 नवंबर से 3 जनवरी, 2017 तक देश भर में प्रति 1,000 की आबादी पर 22,733.2 ई-ट्रांजेक्शन किए गए। पिछले साल 8 सितंबर से लेकर 8 नवंबर के बीच प्रति 1,000 की जनसंख्या पर 17,437 ई-ट्रांजेक्शन हुए।

मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक, गत नवंबर व दिसंबर महीने में उत्तर प्रदेश में प्रति 1,000 की जनसंख्या पर मात्र 293.30 ई-ट्रांजेक्शन किए गए। इस दौरान राजस्थान में 278, पंजाब में 153, उत्तराखंड में 199 तो हरियाणा में 688.20 ई-ट्रांजेक्शन हुए। वहीं इस अवधि में आंध्र प्रदेश में प्रति 1,000 की जनसंख्या पर 980.40, केरल में 2,036, गुजरात में 1,311.90, तेलंगाना में 2,790.70 तो तमिलनाडु में 545.30 ई-ट्रांजेक्शन किए गए।

सरकारी आंकड़ों के मुताबिक, गत सितंबर-अक्तूबर के मुकाबले नवंबर में लगभग सभी राज्यों के ई-ट्रांजेक्शन में अच्छी बढ़ोतरी रही। पिछले साल अगस्त व सितंबर में उत्तराखंड में प्रति 1,000 व्यक्ति पर मात्र 88 ई-ट्रांजेक्शन हुए, जबकि गत नवंबर-दिसंबर में यह ट्रांजेक्शन बढ़कर 199 हो गए।

 

नोटबंदी के बाद ई-ट्रांजेक्शन में दक्षिण भारत सबसे आगे

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-