shorgul_1464932809

मुजफ्फरनगर दंगों पर आधारित फिल्म ‘शोरगुल’ के प्रदर्शन पर रोक लगाने की गुजारिश वाली पीआईएल गुरुवार को हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच में दायर हुई है।

इस पर छह जून को सुनवाई हो सकती है। यह याचिका मेरठ के सरधना निवासीसामाजिक कार्यकर्ता मिलन सोम ने दायर की है।

याची के वकील दिग्विजय नाथ दूबे के मुताबिक 26 जून को रिलीज होने जा रही इस फिल्म में ऐसे कई आपत्तिजनक दृश्य हैं, जिनसे सामाजिक सद्भावना और समरसता टूट सकती है।
ऐसे में इसे दिखाए जाने पर रोक लगाई जानी चाहिए। याचिका में केंद्र व राज्य सरकार समेत अन्य को पक्षकार बनाया गया है।

फिल्म से जुड़े सूत्रों की मानें तो शोरगुल में बाबरी ध्वंस और गोधरा दंगों की बातें की गई हैं। फिल्म का ट्रेलर रिलीज होने के बाद से खलबली है।

इंडस्ट्री के सूत्रों की मानें तो मुजफ्फरनगर दंगों की पृष्ठभूमि पर कुछ छोटी-बड़ी फिल्में बन रही हैं। निर्माताओं के अनुसार, शोरगुल का मुद्दा दंगे की राजनीति का पर्दाफाश करना है। शोरगुल में कुछ किरदारो का लुक यूपी के रसूखदार नेताओं से मिलता जुलता दिखाया गया है।

फिल्म में संजय सूरी का लुक अखिलेश यादव जैसा, जिमी शेरगिल का लुक संगीत सोम जैसा और नरेंद्र झा का लुक आजम खान की तरह है।

इन कलाकारों के नाम भी नेताओं की तर्ज पर मिथिलेश यादव, रंजीत ओम और आलिम खान रखे गए हैं। फिल्म से जुड़े सूत्र कह रहे हैं कि समाजवादी पार्टी के प्रमुख नेता आजम खान फिल्म में अपने जैसे दिखने वाले किरदार से इतने नाराज हैं कि वह निर्माताओं के खिलाफ फतवा जारी कराने की तैयारी में हैं।

निर्माताओं के मुताबिक आजम को शिकायत है कि स्क्रिप्ट में उनके जैसा किरदार रचने से पहले इजाजत क्यों नहीं ली गई? शोरगुल का गाना कांग्रेसी नेता कपिल सिब्बल ने लिखा है और इससे कई लोगों को फिल्म में अलग ढंग की ‘राजनीति’ होने की आशंका है।

नेताओं का सिरदर्द बनी फिल्म शोरगुल पर पीआईएल, कपिल सिब्बल ने लिखा गाना

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-