sharad_pawar_

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार मानने वालों में अब एक नया नाम जुड़ गया है। अब एनसीपी के अध्यक्ष शरद पवार ने पहली बार खुलकर नीतीश की तारीफ की और कहा कि अगले लोकसभा चुनाव के लिए प्रधानमंत्री पद के लिए बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार सबसे योग्य चेहरा हैं।

राजद प्रमुख लालू यादव की बात का समर्थन करते हुए शरद पवार ने कहा कि नीतीश कुमार ने भाजपा विरोधी दलों से एक साथ आने की अपील की है और नेतृत्व नीतीश कुमार ही करेंगे। एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार ने पहली बार खुलकर नीतीश को इशारों इशारों में 2019 के लोकसभा चुनाव का प्रधानमंत्री पद का दावेदर बताया है।

शरद पवार ने एक अखबार को दिए गए अपने इंटरव्यू में कहा है कि इस वक्त देश में बिहार के मुख्यमंत्री और जेडीयू के अध्यक्ष नीतीश कुमार ही एकमात्र ऐसे विपक्षी नेता है जो संगठित विपक्ष का चेहरा बन सकते हैं।

उन्होंने कहा कि ‘भारत में आज अगर सभी विपक्षी पार्टियों को एक साथ मंच पर आना है और इसके नेतृत्व का कोई विकल्प देना है तो नीतीश कुमार वो पहला नाम है, जिनमें यह योग्यता है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के पास ऐसा कोई चेहरा ही नहीं है, जो प्रधानमंत्री बन सके।

शरद पवार ने कहा कि नीतीश कुमार चूंकि राज्य के मुख्यमंत्री हैं इसलिए उनके पास वो कद है और एनसीपी इस तरह के किसी भी गैर-बीजेपी गठबंधन से जुड़ने को लेकर अपने दरवाजे हमेशा खुली रखेगी।

उन्होंने कहा कि 2014 के लोकसभा चुनाव में एनसीपी ने कांग्रेस के साथ मिलकर लोकसभा चुनाव लड़ा था, लेकिन वो सिर्फ 6 सीटों पर ही सिमट कर रह गई थी। नीतीश के बीजेपी से रिश्ता तोड़ने के बावजूद एनसीपी, जेडीयू को अपने पाले में नहीं ला पाई थी। जेडीयू ने भी बिना किसी गठबंधन के अकेले चुनाव लड़ा था और वो भी सिर्फ 2 ही सीट जीत पाई थी।

पवार ने कहा कि तब से अब तक के हालात में काफी बदलाव आ गए हैं। एनसीपी महाराष्ट्र में सत्ता से बाहर हो चुकी है जबकि नीतीश ने अपनी ताकत दिखाते हुए लालू के साथ गठबंधन कर एक बार फिर से बिहार की सत्ता पर कब्जा कर लिया है।

शरद पवार नीतीश कुमार के पुराने प्रशंसक रहे हैं। पिछले साल बिहार चुनाव से पहले उन्होंने नीतीश-लालू के महागठबंधन के जीतने की भविष्यवाणी भी की थी और हुआ भी वही। ऐसे में शरद पवार का ताजा बयान काफी अहम माना जा रहा है।

पवार ने नीतीश के अलावा सोनिया गांधी की भी तारीफ करते हुए कहा कि वो भी एक ऐसा चेहरा है जो सबको साथ लेकर चलती हैं। उन्होंने कहा कि ‘विपक्षी पार्टियों में सोनिया गांधी सबसे ज्यादा मान्य नेता है। हम लोगों में से कुछ ने उनके साथ लड़ाई की है और उनमें बदलाव भी देखा है।

दरअसल 1999 में शरद पवार ने सोनिया गांधी के विदेशी मूल के होने के मुद्दे पर कांग्रेस छोड़ कर अलग पार्टी बनाई थी। पवार ने राहुल गांधी के बारे में साफ साफ कुछ नहीं कहा, सिर्फ इतना ही कहा कि वो इस वक्त एक मात्र ऐसे नेता हैं जो देश के अलग अलग राज्यों का दौरा कर रहे हैं।

वहीं पवार ने आम आदमी पार्टी के नेता अरविंद केजरीवाल को नकारते हुए कहा कि केजरीवाल को कोई नहीं जानता, सिर्फ लोगों ने नाम सुना है। इसके साथ ही पवार ने 2017 के यूपी चुनाव में मायावती की पार्टी बीएसपी की जीत की भी उम्मीद जताई है।

 

नीतीश पीएम पद के सही उम्मीदवार – शरद पवार

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-