02_09_2016-02-09-2016-up

मुरादाबाद दिल्ली के रेड लाइट क्षेत्र जीबी रोड पर बड़ा ही हाइप्रोफाइल कोठा चलाने के जुर्म में गिरफ्तार आफाक हुसैन व सायरा बेगम के काले कारनामे की पोल परत दर परत खुलती जा रही है। सुर्खियों में आए सेक्स रैकेट के सरगना आफाक का नेटवर्क खंगालने में लगी दिल्ली की क्राइम ब्रांच को पीतलनगरी मुरादाबाद के एक दर्जन से अधिक बिल्डर्स और निर्यातकों की जानकारी मिली है।

इसके साथ ही महानगर की उच्च वर्गीय कुछ महिलाओं के मोबाइल नंबर भी ट्रेस हुए हैं। इनके संपर्क न सिर्फ आफाक और उसकी पत्नी शायरा से थे बल्कि दोनों मुरादाबाद आने के दौरान इनके घरों में भी जाते थे।

देश में लग्जरी गाडिय़ों से घूमने वाले आफाक ने महानगर में बिल्डर्स के साथ बड़ी मात्रा में रुपये भी लगा रखे थे, जिनका हिसाब-किताब कटघर करूला के गली नंबर तीन निवासी मुईन रखता था।

मुईन तो आफाक का रिश्ते का भाई बताया जाता है। क्राइम ब्रांच की टीम ने कुछ होटलों के सीसीटीवी फुटेज भी जुटाये हैं, जिसमें आफाक के साथ शायरा और तीन युवतियां भी मौजूद थीं। दिल्ली से बरेली और लखनऊ जाते समय अफाक अक्सर मुरादाबाद अपने लोगों से मिलता हुआ जाता था।

मुईन से हिसाब-किताब होता था। क्राइम ब्रांच की टीम अब तो आफाक की संपत्ति की तलाश कर रही है। इसके साथ ही उन लोगों की जानकारी कर रही है जिनके साथ उसकी पार्टनरशिप भी रही है। टीम को उसके मुरादाबाद के एक पार्टनर का भी पता चला है। जिसकी अश्लील तस्वीरें भी सोशल मीडिया पर वायरल हो गई हैं।

ऐसे खुला काला चिट्ठा

पश्चिम बंगाल के दुर्गापुर के एमएलए के परिवार की एक युवती तीन महीने पहले प्रेमी के साथ भागकर दिल्ली आई थी। कुछ दिन बाद ही प्रेमी ने उसे साठ हजार रुपये में आफाक को बेच दिया था।

आफाक ने पहले तो एमएलए के परिवार वालों से युवती का सौदा किया। पचास लाख रुपये की मांग की गई थी। यह मामला हाईप्रोफाइल होने के कारण पश्चिम बंगाल की पुलिस पीछे लगी हुई थी। युवती को उसने मुंबई में रखा था, जबकि बातचीत दिल्ली से की जा रही थी। क्राइम ब्रांच की टीम को 15 दिन पहले आफाक का नंबर मिल गया था। टीम उसकी जानकारी एकत्र करने में जुट गई थी। उसका मोबाइल सर्विलांस पर लेकर दिल्ली क्राइम ब्रांच की टीम उसकी लोकेशन ट्रेस कर रही थी।

दिल्ली में चलाता था लड़कियों का मदरसा

सेक्स रैकेट सरगना आफाक बाकरी दिल्ली के जैतपुर में एक मदरसे का संचालन भी करता था। यहां पर तो बालिकाओं के रहने के लिए हॉस्टल की सुविधा भी है।

परसों शाम को दिल्ली पुलिस ने मदरसे का रिकार्ड भी कब्जे में लेकर जांच शुरू कर दी है। इसके अलावा दिल्ली पुलिस ने आफाक से लैपटॉप बरामद किया है। उसमें जिले के एक कद्दावर सपा नेता के भाई व आजमगढ़ के प्रसिद्ध शायर के संबंध में अहम जानकारी मिली है। यह दोनों भी अब दिल्ली पुलिस के रडार पर आ गए हैं।

हसनपुर से लडऩा चाहता था चुनाव

आफाक बाकरी हसनपुर से आगामी विधानसभा चुनाव लडऩे की तैयारी कर रहा था। इसके लिए वह सत्ता पक्ष के बड़े नेता के साथ ही दूसरी राष्ट्रीय पार्टी के महासचिव के संपर्क में था।

इन बड़े नेताओं को अफाक के इतिहास के साथ ही उसके घिनौने धंधे की जानकारी थी, लेकिन जमकर नोट खर्च करने के कारण बड़े नेता उससे मधुर संबंध बनाए थे। इस बार उसने विधानसभा चुनाव में सत्तारूढ़ पार्टी के साथ ही दूसरी राष्ट्रीय पार्टी से टिकट हथियाने के लिए फील्ड सजाई थी। नेता ने उसे टिकट दिलाने का आश्वासन भी दिया था। यहां से टिकट न मिलने की दशा में उसने विकल्प के रूप में दूसरी राष्ट्रीय पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव से नजदीकी बना ली थी।

सरासर झूठ बोल रहे हैं मौलाना : कमाल अख्तर

सेक्स रैकेट के सरगना आफाक के साथ विज्ञान एवं प्रोद्योगिकी विभाग के अध्यक्ष मौलाना जावेद आब्दी ने अपनी फोटो पर सफाई देते हुए जो बयान दिया है उस पर नाराजगी जताते हुए कैबिनेट मंत्री कमाल अख्तर ने कहा है कि वह सरासर झूठ बोल रहे हैं।

दिल्ली के कार्यक्रम में उनकी गाड़ी से मौलाना नहीं गए थे, बल्कि उस कार्यक्रम में वह पहले से मौजूद थे। गौरतलब है दिल्ली में आयोजित एक कार्यक्रम में विज्ञान एवं प्रोद्योगिकी विभाग के अध्यक्ष मौलाना जावेद आब्दी सेक्स रैकेट के सरगना आफाक बाकरी के साथ थे। दिल्ली में आफाक की गिरफ्तारी के बाद सोशल मीडिया से लेकर ङ्क्षपट्र मीडिया पर यह फोटो छाया हुआ है। इस पर सफाई देते हुए मौलाना जावेद आब्दी ने कहा था कि आफाक बाकरी से उनकी कोई जान-पहचान नहीं है। वह तो कैबिनेट मंत्री कमाल अख्तर के कहने पर उनकी गाड़ी से कार्यक्रम में शामिल होने के लिए दिल्ली चले गए थे। उस कार्यक्रम में कैबिनेट मंत्री मुख्य अतिथि थे।

इस संबंध में जब फोन पर कैबिनेट मंत्री कमाल अख्तर से बात की गई तो उन्होंने मौलाना आब्दी के बयान को सरासर गलत बताया।कमाल अख्तर ने कहा कि कार्यक्रम वाले दिन वह दिल्ली में थे, उनके पैतृक गांव के एक सभासद के अनुरोध पर वह उस कार्यक्रम में चले गए थे। वहां पर मौलाना जावेद आब्दी पहले से ही मौजूद थे। कार्यक्रम में उनके मुख्य अतिथि होने की बात भी गलत है।

 

निशाने पर मुरादाबाद के निर्यातक और बिल्डर्स

| उत्तर प्रदेश, मुरादाबाद | 0 Comments
About The Author
-