नई दिल्‍ली। आम बजट को लेकर आपकी जेब का बोझ शायद ही कम हो। खबरों के अनुसार सरकार सर्विस टैक्‍स को बढ़ाकर 16-18 प्रतिशत तक कर सकती है। फिलहाल यह 15 प्रतिशत है। अगर ऐसा हुआ तो आपके लिए बाहर खाने के साथ ही हवाई यात्रा, फोन बिल और दूसरी अन्‍य सभी चीजें महंगी हो जाएंगी।

एक अंग्रेजी अखबार की खबर के अनुसार वित्‍त मंत्री अरुण जेटली बुधवार को जब लोकसभा में बजट पेश करेंगे तो उसमें इसका जिक्र हो सकता है। माना जा रहा है कि यह कदम जीएसटी में प्रस्‍तावित टैक्‍स दरों को लगभग एक जैसी करने की कोशिश है।

सरकार 1 जुलाई 2017 को जीएसटी लागू करने का लक्ष्‍य लेकर चल रही है। इसके लागू होते ही केंद्र और राज्‍य सरकार की तरफ से लगाए जाने वाले एक्‍साइज टैक्‍स, वैट व अन्‍य अप्रत्‍यक्ष कर इसमें शामिल हो जाएंगे।

टैक्‍स एक्‍सपर्ट्स के अनुसार जीएसटी के लिए तय की गई टैक्‍स स्‍लैब 5, 12, 18 और 28 प्रतिशत है और ऐसे में सर्विस टैक्‍स को इसके आसपास रखने की कोशिश तर्कसंगत है। उनके अनुसार वित्‍त मंत्री अरुण जेटली जिन्‍होंने अपने पिछले बजट में सर्विस टैक्‍स 0.5 प्रतिशत बढ़ाकर 15 प्रतिशत किया था अब इसे और बढ़ाकर 16 प्रतिशत कर सकते हैं।

कुछ अन्‍य का मानना है कि वित्‍त मंत्री बेसिक सर्विस के लिए सर्विस टैक्‍स 12 प्रतिशत और बाकी के लिए 18 प्रतिशत कर सकते हैं। ज्‍यादा सर्विस टैक्‍स के चलते सरकार का अप्रैल से जून के बीच रेवेन्‍यू भी बढ़ेगा जो नोटबंदी के बाद प्रभावित स्‍कीम्‍स और प्रोग्राम्‍स को सपोर्ट करने के लिए काम आएगा। इसके अलावा जीएसटी के लगभग सर्विस टैक्‍स होने से आम जनता को उस वक्‍त कीमतें बढ़ने का झटका कम लगेगा जब सरकार नेशनल सेल्‍स टैक्‍स पेश करेगी।

अगर जेटली यह कदम उठाते हैं तो यह तीसरी बार होगा जब वो सर्विस टैक्‍स बढ़ाएंगे। इससे पहले दो बार वो सर्विस टैक्‍स 12.36 प्रतिशत से 14 प्रतिशत कर चुके हैं जिसके बाद उन्‍होंने नवंबर 2015 में इस पर स्‍वच्‍छ भारत सेस लगाया था जिसके चलते यह 14.5 प्रतिशत हो गया था। पिछले बजट में वित्‍त मंत्री ने 0.5 प्रतिशत कृषि कल्‍याण सेस लगाया था जिस वजह से सर्विस टैक्‍स 15 प्रतिशत पर पहुंच गया।

नये बजट में सर्विस टैक्सम 16-18 प्रतिशत कर सकते हैं वित्तर मंत्री

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-