समाजवादी पार्टी में सुलह की तमाम कोशिशें नाकाम हो जाने के बाद अब मुलायम और अखिलेश की पार्टियां अलग-अलग चुनाव लड़ेंगी। इसकी तैयारियां शुरू हो गई हैं। पार्टी के नाम और निशान पर स्थिति साफ होने के बाद अखिलेश यादव पहले और दूसरे चरण में मतदान वाले क्षेत्रों में चुनाव प्रचार के लिए निकलेंगे। सीएम अखिलेश यादव का घोषणा पत्र लगभग तैयार है। इसकी प्रस्‍तवना में गांधी, लोयिाया, जेपी व चौधरी चरण सिंह के सपनों को साकार कारने का संकल्‍प लिया गया है। सीएम के मेनिफेस्‍टो में गांव, गरीब, किसान, युवा, महिला और अल्पसंख्‍यकों पर खास जोर दिया गया है।

चुनाव आयोग के फैसले का इंतजार
– अखिलेश अपने मेनिफेस्‍टो को तैयार कर चुके हैं। वे चुनाव आयोग के फैसले का इंतजार कर रहे हैं।
– जिसके बाद तय हो जाएगा कि साइकिल निशान मुलायम खेमे के पास रहता है या अखिलेश को मिलता है।
– बता दें, चुनाव आयोग का फैसला 13 जनवरी को आना है।

चुनाव निशान घोषित होते ही मेनिफेस्‍टो का होगा ऐलान
– वहीं, अखिलेश साइकिल चुनाव निशान न मिलने की सूरत में इस बात के लिए भी तैयार हैं कि उन्‍हें जो भी चुनाव निशान मिलेगा उसके साथ वो घोषणा पत्र जारी करेंगे।
– इस लिए अब वे आयोगा द्वार दिए जाने वाले पार्टी के नाम व निशान पर फैसले का इंतजार कर रहे हैं।
– सिंबल और दल का नाम तय होते ही घोषणा पर छपने के लिए भेज दिया जाएगा।

दोनों ही खेमों के पास होगी अलग पार्टी व अलग सिंबल , मुलायम-अखिलेश ने शुरू की तैयारी

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-