बिलासपुर। ऑनलाइन ट्रांजेक्शन वाले अकाउंट के पासवर्ड में स्पेस देकर अधिक सुरक्षित बनाया जा सकता है। ऐसे अकाउंट को हैक करने में दुनिया के बड़े से बड़े हैकर के पसीने छूट जाएंगे। चेयरमैन एंड साइबर आर्मी क्राइम एनालिस्ट किसलय चौधरी ने कहा कि साइबर अपराधियों को कुछ नहीं आता, वे सिर्फ गूगल से स्टेप देखकर लोगों को ठगते हैं। आम लोग जानकारी नहीं होने के कारण उनसे डरते हैं। उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया से जुड़े अपराधों की सबसे ज्यादा शिकार लड़कियां हो रही हैं। उन्हें बचाव के लिए सुरक्षा अपनाने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया पर आसानी से किसी पर भरोसा करने के बजाय सावधानी रखें और सामान्य जानकारी जुटाकर उपयोग करें। उन्होंने यह भी बताया कि अनजान ईमेल नहीं खोलने चाहिए। उन्होंने कहा कि दुनिया में सबसे आसान काम सायबर क्राइम को हल करना है। ऐसा अपराध कभी भी छुपाया नहीं जा सकता। कार्यक्रम का संचालन चेंबर्स ऑफ कामर्स के महामंत्री बेनी गुप्ता व आभार प्रदर्शन के्रडाई अध्यक्ष एसपी चतुर्वेदी ने किया। श्री चौधरी ने बताया कि गूगल, पेटीएम को सभी फ्री सर्विस समझते हैं। यह कुछ हद तक सही भी है, लेकिन लोग यह नहीं सोचते कि जब भी हम गूगल में कुछ सर्च करते हैं और बाद में जब फेसबुक इत्यादि ओपन करते हैं तो उसी सामान का विज्ञापन फेसबुक में दिखने लगता है,वह कैसे आया। इसका सीधा जबाव यह है कि फ्री सर्विस देने वाले विज्ञापन में पैसे कमाते हैं। वे हमारे डाटा व लिंक को शेयर करते हैं।

साइबर आर्मी का दावा है कि अगर मनिटरी फ्राड की सूचना बैंक को 48 घंटे के भीतर दी जाए तो रिफंड में आसानी होती है। इसके साथ ही सोशल मीडिया प्रोफाइल से जुड़े मामलों को भी साइबर आर्मी साल्व करती है। साइबर आर्मी की तरफ से लोगों के लिए व्हाटसएप नबंर और मिस्ड काल सेवा भी शुरू की गई है। साइबर आर्मी में 30 कोर सदस्य हैं, जबकि 150 वालिंटियर्स शामिल हैं। ये लोग हमेशा लोगों की मदद को तैयार रहते हैं।

श्री चौधरी ने बताया कि सोशल मीडिया में सबसे ज्यादा खतरा फेसबुक से है। यहां हमारी पूरी जानकारी रहती है और हैकर्स को केवल हमारा बैंक खाता नंबर चाहिए होता है। फेसबुक में आजकल फर्जी आईडी बनाकर ठगी की जा रही है। इसी तरह फेसबुक से हमेशा लोग जुड़े रहते हैं और पर्सनल जानकारी भी शेयर करते रहते हैं। इस तरह से बिना सावधानी के फेसबुक उपयोग करना व शेयर करना खुद के लिए खतरनाक साबित हो सकता है।

डिजिटल लॉकर का प्रयोग ना करें।

कोई भी एप्लीकेशन सेव नहीं करना चाहिए।

जो एप्लीकेशन मोबाइल में नहीं चल रहे हैं उन्हें तुरंत रिमूव करना चाहिए।

जिस मेल व बेवसाइड के बारे में आप नहीं जानते उसे कभी ओपन ना करें।

पासवर्ड को समय-समय पर बदलते रहें।

दुनिया के बड़े से बड़े हैकर के पसीने छूट जाएंगे

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-