manish-sisodia 23 08 2016

दिल्ली विधानसभा सत्र के पहले दिन सदन की कार्यवाही का समापन करते हुए दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया दिल्ली के वोटर की ताकत के मुद्दे पर अत्यधिक उग्र हो गए। उन्होंने बगैर किसी का नाम लिए हुए कहा कि दिल्ली की जनता के काम रोके गए तो कच्चा चबा जाऊंगा। हम राजनीति में भले ही बच्चे हों, मगर इरादों के पक्के हैं। जनता ने हमें यहां अपनी लड़ाई और अधिकारों के लिए बैठाया है।

हम भी कोई कोर कसर नहीं छोड़ेंगे। चुने हुए जनप्रतिनिधियों के अधिकारों को लेकर लगातार लड़ते रहेंगे। अपने वक्तव्य के दौरान प्रधानमंत्री का नाम लेने पर विपक्ष के नेता विजेंद्र गुप्ता की टोका-टिप्पणी पर भड़के सिसोदिया ने कहा कि प्रधानमंत्री का नाम ही नहीं दिल्ली की जनता के अधिकार के लिए जरूरत पड़ी तो उनसे भी बात करेंगे और सिर्फ उनसे ही नहीं, यमराज से भी बात करेंगे।

विपक्ष के नेता द्वारा उठाए गए सवाल के जवाब में सिसोदिया ने कहा कि यह सत्र दिल्ली हाई कोर्ट के आदेश को लेकर या उस पर चर्चा करने के लिए नहीं बुलाया गया है। हमें न्यायपालिका पर पूरा भरोसा है। दिल्ली हाई कोर्ट ने एलजी साहब के पक्ष में जो फैसला दिया है कि उसका हम सम्मान और पालन कर रहे हैं। मगर फैसले पर सहमति या असहमति जताने का हमें कानूनन अधिकार है।

हम इस फैसले से असहमत हैं। इसलिए हमे जहां जाना होगा हम जाएंगे। उन्होंने दिल्ली की स्थिति पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि दिल्ली को अप्रत्यक्ष रूप से राष्ट्रपति शासन की ओर ले जाया जा रहा है। केंद्र सरकार दिल्ली में राष्ट्रपति शासन जैसी स्थिति पैदा कर रही है। अरुणाचल प्रदेश और उत्तराखंड के बाद दिल्ली के साथ इस तरह के प्रयास किए जा रहे हैं।

 

दिल्ली के काम रोके तो कच्चा चबा जाऊंगा : सिसोदिया

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-