चेन्नई। तमिलनाडु में करीब तीन साल के प्रतिबंध के बाद जल्लीकट्टू की वापसी तय हो गई है। तमिलनाडु के राज्यपाल सीएच विद्यासागर राव ने जल्लीकट्टू अध्यादेश को शनिवार को मंजूरी दे दी।

मदुरै और राज्य के अन्य हिस्सों में रविवार को सांडों को वश में करने वाले इस खेल का आयोजन किया जाएगा। केंद्र सरकार ने तेज कदम उठाते हुए शुक्रवार रात अध्यादेश को मंजूरी देकर इसे लागू करने का रास्ता साफ कर दिया था।

राज्य के मुख्यमंत्री ओ. पन्नीरसेल्वम ने शनिवार को कहा कि वह मदुरै के अलंगनाल्लूर में रविवार सुबह 10 बजे जल्लीकट्टू का उद्घाटन करेंगे। जबकि अन्य जगहों पर क्षेत्र से जुड़े मंत्री 11 बजे इसका उद्घाटन करेंगे। मुख्यमंत्री ने युवाओं, छात्रों और आम जनता को राज्यभर में जल्लीकट्टू में शामिल होकर इसे सफल बनाने को कहा।

उन्होंने कहा कि शुक्रवार रात राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी से पशुओं के प्रति क्रूरता रोकथाम (पीसीए) कानून, 1960 में संशोधन करने की मंजूरी मिली। इसके बाद इस कानून में संशोधन के अध्यादेश को राज्यपाल से भी अनुमति मिल गई है। पन्नीरसेल्वम ने कहा कि अध्यादेश की जगह लेने और पीसीए कानून में संशोधन के लिए मसौदा विधेयक तमिलनाडु विधानसभा में पेश किया जाएगा और पारित कराया जाएगा।

तीन साल के प्रतिबंध के बाद तमिलनाडु में जल्लीकट्टू की वापसी

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-