रायपुर। निजी मेडिकल-डेंटल कॉलेजों की एमबीबीएस-बीडीएस सीट के लिए नेशनल एलीजिबिलिटी कम एंट्रेंस टेस्ट नीट 7 मई को हो सकता है। सेंट्रल बोर्ड सेकंडरी एजुकेशन ने यह संभावित तारीख जारी कर दी है। फरवरी के पहले हफ्ते में परीक्षा फॉर्म उपलब्ध होंगे। इस बार नीट में एक नया नियम लागू होने जा रहा है। अभ्यर्थियों को नीट पास करने के लिए सिर्फ तीन मौके ही मिलेंगे।

2016 में सुप्रीम कोर्ट ने सभी कॉलेजों में ‘नीट” की अनिवार्यता की थी, लेकिन राज्यों की मांग पर केंद्र सरकार अध्यादेश लेकर आई। सरकारी कॉलेजों की स्टेट कोटा सीट पर स्टेट-पीएमटी से दाखिले दिए गए, जबकि निजी कॉलेजों की मैनेटमेंट सीट पर नीट से ही दाखिले हुए।

इस साल हर सीट पर नीट से ही दाखिले होंगे, जिसे लेकर सीबीएसई ने तैयारियां पूरी कर ली हैं। हालांकि दिसंबर तक फॉर्म आ जाने थे, अब ये फरवरी में आएंगे। जून में परीक्षा परिणाम जारी हो जाएंगे। चिकित्सा शिक्षा संचालनालय के उप संचालक डॉ. सुमित त्रिपाठी का कहना है कि नीट पर केंद्र के निर्देश का इंतजार कर रहे हैं।

तीन बार ही दे पाएंगे नीट परीक्षा

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-