narendra-modi-3

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को मुंबई में दुनिया की पहली मैरीटाइम इंडिया समिट का उद्घाटन किया। तीन दिनों के इस सम्मेलन में भारत की समुद्री संपदा के बेहतर उपयोग पर चर्चा होगी।

समिट को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि मैं आपका इस मैरीटाइम समिट में स्‍वागत करता हूं और आप लोगों के बीच होना सम्‍मान का विषय है। मैरीटाइम ट्रांसपोर्ट, ट्रांसपोर्टेशन का एक बेहद व्‍यापक साधन हो सकता है साथ ही यह सबसे ईको फ्रेंडली तरीका भी है। लेकिन हमें इस बात का ध्‍यान रखना होगा कि हमारी लाईफ स्‍टाइल और ट्रेडिंग बिहेवियर का समुद्री परिस्थितिकी पर गलत असर ना पड़े। यह पहली बार है जब भारत द्वारा इस तरह का आयोजन विश्‍वस्‍तर पर किया जा रहा है।

प्रधानमंत्री ने इस मौके पर डॉ. अंबेडकर को उनकी 125वीं ज‍यंती पर याद करते हुए कहा कि आज ऐसे व्‍यक्तित्‍व की 125वीं जयंती है जो मुंबई में रहे और यहां काम किया और वो डॉ. अंबेडकर थे। वो भारत में जल और नदी नेविगेशन के आर्किटेक्‍ट थे। साथ ही वो पानी और स‍िंचाई नेविगेशनके आर्किटेक्‍ट भी थे। उन्‍होंने लाखों गरीब भारतीयों के जीवन में समृद्धी लाने के लिए नई जलीय मार्ग पॉलिसी की वकालत की थी। मुझे खुशी है कि हमने बाबा साहेब के विजन को ध्‍यान में रखते हुए राष्‍ट्रीय जलमार्ग के विकास की शुरुआत की है।

डॉ. अंबेडकर ने जलमार्ग पॉलिसी पर दिया था जोर: पीएम

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-