team-india_1458993758

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने टीम इंडिया के मुख्य कोच पद के लिए भर्ती प्रक्रिया शुरू कर दी है और आवेदन के लिए 10 जून तक का समय दिया गया है।

बीसीसीआई ने एक जून की शाम को अपनी वेबसाइट पर कोच पद के लिए विज्ञापन पोस्ट कर दिया है। मुख्य कोच के लिए बोर्ड ने 9 मानक तय किए हैं। बीसीसीआई की पहली शर्त यह है कि उम्मीदवार को आईसीसी के किसी भी सदस्य देश की किसी भी टीम के साथ कोचिंग का अनुभव होना चाहिए चाहे वह प्रथम श्रेणी हो या अंतरराष्ट्रीय स्तर।

टीम इंडिया के डायरेक्टर रवि शास्त्री, बैटिंग कोच संजय बांगड़, बॉलिंग कोच भरत अरुण और फील्डिंग कोच आर श्रीधर जिन्हें 2014 में टीम इंडिया के इंग्लैंड दौरे के दौरान वनडे सीरीज से पहले टीम के कोचिंग स्टॉफ के रूप में अनुबंधित किया गया था का करार इस साल मार्च में टी-20 वर्ल्ड के बाद खत्म हो गया था।

हालांकि बांगड़ को भारत के आगामी जिम्बाब्वे दौरे के लिए टीम इंडिया का अंतरिम कोच नियुक्त किया गया है।  जबकि अभय शर्मा जो अभी तक भारत की अंडर-19 टीम और ए टीम के साथ जुड़े हुए थे को इस दौरे के लिए फील्डिंग कोच चुना गया है। पिछले दिनों खबर भी आई थी कि टीम इंडिया के पूर्व डायरेक्टर रवि शास्त्री और अपने सहयोगी स्टाफ संजय बांगड़, भरत अरुण और आर श्रीधर के साथ अगले कुछ दिनों में राष्ट्रीय कोचिंग पद के लिए दोबारा आवेदन भरने को तैयार हो गए हैं।

नाम नहीं छापे जाने की शर्त पर बीसीसीआई के एक शीर्ष अधिकारी ने बताया था कि बीसीसीआई के शीर्ष अधिकारियों से सकारात्मक संकेत मिलने के बाद कोचिंग जॉब्स के लिए आवेदन मंगाने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। अब कोच और सपोर्ट स्टाफ समेत हर पद के लिए आवेदन देना होगा। आवेदन का प्रारूप तैयार किया जा रहा है। सभी आवेदकों को इन नियमों का पालन करना होगा। साथ ही शीर्ष अधिकारी ने यह भी पुष्टि की कि शास्त्री, बैटिंग कोच बांगड़, बॉलिंग कोच अरुण और फील्डिंग कोच आर श्रीधर आवेदन भेजेंगे। वे बीसीसीआई के विज्ञापन के आने का इंतजार कर रहे हैं।

बीसीसीआई ने मुख्य कोच पद के लिए जो 9 मानक तय किए हैं वो इस प्रकार हैं।

1, उम्मीदवार को आईसीसी के किसी भी सदस्य देश की क्रिकेट टीम के साथ कोचिंग का सफल अनुभव होना चाहिए, चाहे वह प्रथम श्रेणी हो या अंतरराष्ट्रीय स्तर का हो।
2, उम्मीदवार ने किसी भी फुल सदस्य देश की ओर से आयोजित सर्टिफिकेशन या असेसमेंट कार्यक्रम में क्वालीफाई किया हो या सही तरीके से सर्टिफिकेशन हासिल किया हो।
3, क्रिकेट के तीनों प्रारूपों में टीम इंडिया को आगे ले जाने के लिए कोचिंग प्लान तैयार करने की योग्यता होनी चाहिए।
4, खिलाड़ियों के व्यक्तिगत प्रदर्शन को मापने के लिए तरीका या तकनीक होनी चाहिए, जिसके जरिए लगातार या समय विशेष पर टीम के प्रदर्शन को मापा जा सके।
5, उम्मीदवार के पास स्पोर्ट्स साइकोलॉजी और खेल से जुड़ी दवाइयों के साथ ही दबाव से खिलाड़ियों को उबारने के लिए विशेष योग्यता होनी चाहिए। जिसके जरिए टीम के प्रदर्शन को सुधारा जा सके।
6, उम्मीदवार में संचार के लिए बेहतर स्किल होनी चाहिए। किसी भी अंतरराष्ट्रीय टीम का कोच होने के दौरान सही संदेश भेजने और बातचीत के लिए अंग्रेजी भाषा में दक्ष होना चाहिए। साथ ही उन्हें स्थानीय भाषा में कम्युनिकेट करने के लिए हिंदी या अन्य क्षेत्रीय भाषा भी आनी चाहिए।
7, उम्मीदवार को खेल से जुड़े सॉफ्टवेयर, तकनीक और ट्रेंड्स के बारे में अपडेट होना चाहिए जिसकी मदद से खिलाड़ियों और टीम के प्रदर्शन में सुधार लाया जा सके।
8, उम्मीदवार का खुद का रिकॉर्ड बेदाग होना चाहिए, वर्तमान या विगत दिनों में उसका किसी भी आईसीसी से जुड़े बोर्ड या उससे संबंधित संगठनों के साथ विवाद से कोई नाता नहीं होना चाहिए।
9, एनसीए क्रिकेट विकास प्रोग्राम के लिए कुछ योजना भी होनी चाहिए जिससे क्रिकेटरों की अगली पीढ़ी को तैयार करने में मदद मिल सके। साथ ही उन्हें एनसीए के लिए खुद को उपलब्ध रखें खासतौर से तब जब वह टीम के साथ जुड़े हुए न हो।

टीम इंडिया का कोच बनना है तो पूरी करनी होंगी ये 9 शर्तें

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-