jat_agitation_flag_march_

हरियाणा में जाट आरक्षण पर हाईकोर्ट के अंतरिम रोक लगाने और जाट संगठनों द्वारा पांच जून को राष्ट्रव्यापी आंदोलन की चेतावनी के मद्देनजर विभिन्न जिलों में सुरक्षा बढ़ा दी गई है। मीडिया रिपोर्टों के अनुसार मुनक नहर, रोहतक और सोनीपत के इलाकों में अर्धसैनिक बलों को तैनात किया गया है। इससे पहले रविवार को दिल्ली में हुई बैठक के बाद अखिल भारतीय जाट आरक्षण संघर्ष समिति ने फिर एक बार आंदोलन करने का अल्टीमेटम दिया। हांसी में सीआरपीएफ तैनात कर दी गई है तो रोहतक में पुलिस ने फ्लैग मार्च किया।

जींद में शनिवार रात ही बीएसएफ की एक कंपनी पहुंच गई। इसमें कुल 84 जवान हैं, जिनमें एक सहायक कमांडर, नौ एसओ तथा 74 ओआरएस शामिल हैं। कैथल में बीएसएफ की तीन टुकड़ियों ने न्यू पुलिस लाइन में डेरा डाल दिया है। एसपी सुमित कुमार ने बताया कि अर्द्ध सैनिक बल शहर में आ गया है। जरूरत पड़ी तो इन्हें तैनात किया जाएगा। फिलहाल यह पेट्रोलिग करेंगी। सोनीपत जिले में आरएएफ (रैपिड एक्शन फोर्स) की दो व एचएपी (हरियाणा सशस्त्र पुलिस) की एक टुकड़ी रविवार को पहुंची। आरएएफ की टुकड़ी को मूनक नहर में तैनात कर दिया है। जिले में धारा-144 भी लागू कर दी गई है।

रोहतक में पहले ही पैरा मिलिट्री फोर्स और आरएएफ को बुला लिया गया है। शहर और सांपला, कलानौर जैसे कस्बों में पुलिस का फ्लैग मार्च चल रहा है। पुलिस अफसर भी जाट नेताओं के संपर्क में हैं। एसपी शशांक आनंद ने बताया कि जिले में पैरा मिलिट्री और आरएएफ की दो -दो कंपनी और इसके अलावा स्थानीय पुलिस बल की भी टीमें बना दी गई हैं। हांसी में शनिवार रात को सीआरपीएफ और पैरा मिलिस्ट्री फोर्स की एक-एक कंपनी तैनात कर दी गई है। एक कंपनी में करीब 100 जवान शामिल हैं।

जवानों ने विश्राम गृह के समीप जाट धर्मशाला में पड़ाव डाल दिया है और शहर की अन्य धर्मशाला और स्कूलों की इमारतों में उनके ठहरने की व्यवस्था की गई है।

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक राजेंद्र मीणा ने बताया कि सीआरपीएफ की दो कंपनियां हांसी भेजी गई हैं। आला अधिकारियों की सोमवार को मीटिंग के बाद सुरक्षा बलों की तैनाती की योजना को अंतिम रूप दिया जाएगा। मीणा ने कहा कि एक कंपनी को हांसी शहर व दूसरी कंपनी को आंदोलन स्थल मैय्यड़ के आसपास तैनात किया जाएगा।

 

जाट आरक्षण पर जाटों की चेतावनी के बाद रोहतक में फ्लैग मार्च

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-