चेन्‍नई। जल्‍लीकट्टू को लेकर जारी प्रदर्शन के हिंसक होने के बाद कई वाहनों को आग लगा दी गई वहीं कई लोग घायल हुए। इसके लिए प्रदर्शनकारियों को जिम्‍मेदार ठहराया जा रहा था लेकिन एक वीडियो सामने आया है जिसे लेकर दावा है कि विरोध करने वालों ने नहीं बल्कि पुलिसवालों ने ही वाहनों में आग लगाई थी।

हालांकि फोटोग्राफर्स के इस दावे को चेन्‍नई के पुलिस कमिश्‍नर एस जॉर्ज ने नकारते हुए कहा है कि वीडियो के साथ छेड़छाड़ हुई है। उन्‍होंने यह भी कहा कि पुलिस को बदनाम करना शर्मनाक है और वो वीडियो को सायबर क्राइम विभाग को भेजेंगे।

एक अंग्रेजी अखबार के अनुसार विवेकानंदर इलाम में प्रदर्शनकारियों द्वारा पथराव और तोड़फोड़ के बाद पुलिसवाले भीड़ को काबू करने में लगे थे। मरीना बीच के करीब कमारजार सलाई में चेन्‍नई पुलिस प्रदर्शन पर नजर रखे हुए थी और उन्‍हें हटाने की कोशिश में थी। उन्‍हें हटाने से पहले कई दौर की बातचीत भी हुई और अंत में हल्‍का बल प्रयोग कर उन्‍हें वहां से हटाया जाने लगा।

मौके पर मौजूद लोयोला कॉलेज के प्रोफेसर एड्रू सेसुराज के अनुसार वहां पुलिस के अत्‍याचार के उदाहरण नजर आए। पुलिसवालों ने लोगों पर हमला करते हुए कई वाहनों को तोड़फोड़ दिया। उन्‍होंने दुकानदारों को भी शटर बंद करने के लिए मजबूर कर दिया।

सेसुराज के अनुसार मेरी बाइक भी पुलिसवालों की वजह से क्षतिग्रस्‍त हो गई। उन्‍होंने एक बुजुर्ग पर भी हमला किया।

जल्ली कट्टू: पुलिसवालों ने ही वाहनों में लगाई आग

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-