underage-high-school-pass-out-student-wont-get-governments-laptop_1466135235

बच्चों की छोटी उम्र के आपने खूब फायदे सुने होंगे, लेकिन सूबे की अखिलेश सरकार के लैपटॉप वितरण में छोटी उम्र के बच्चों के हाथ से लैपटॉप फिसल गया है। सीबीएसई की 10वीं कक्षा में 10सीजीपीए बच्चों की संख्या अधिक होने के चलते लैपटॉप वितरण का नया फार्मूला जन्मतिथि का आधार बनाया गया है। जो बच्चे उम्र में बड़े हैं, उन्हें लैपटॉप मिलेगा, लेकिन जिनकी उम्र कम है, उन्हें सूची से बाहर कर दिया। समान अंक होने पर यूपी बोर्ड के बच्चों के बीच भी यही नियम तय किया है।
शिक्षण सत्र 2015-16 के मेधावी बच्चों को मेरिट के आधार पर बागपत में 494 लैपटॉप बाटे जाने हैं। सीबीएसई के हाईस्कूल और इंटरमीडिएट के 20-20 बच्चों का चयन होना था, लेकिन 10 सीजीपीए हासिल करने वाले बच्चों की संख्या 320 तक पहुंच गई। मामला बागपत से इलाहाबाद तक पहुंचा।

डीआईओएस डॉ. आशुतोष भारद्वाज ने बताया सूबे के अधिकारियों की मीटिंग में तय हुआ कि यूपी बोर्ड में समान अंक और सीबीएसई में 10 सीजीपीए अधिक होने के चलते जन्मतिथि को आधार बनाकर बच्चों का चयन किया जाएगा। उम्र में जो बच्चे बड़े होंगे, उन्हें लैपटॉप की सूची में शामिल किया जाएगा। सीबीएसई के 320 बच्चों में से अब केवल 20 का चयन जन्मतिथि के आधार पर बड़े बच्चों का चयन होगा। पूरे प्रदेश में यही फार्मूला अपनाया जाएगा।

यूपी बोर्ड के हाईस्कूल और इंटरमीडिएट के 217-217 बच्चों को लैपटॉप दिया जाना है, लेकिन हाईस्कूल में 22 बच्चे ऐसे हैं, जिनके अंक 510 हैं। इनमें केवल आठ का चयन किया जाना है। इसी तरह इंटरमीडिएट में आखिर के 17 बच्चे ऐसे हैं, जिनके 427 अंक हैं। इनमें से भी केवल 15 बच्चों का चयन किया जाएगा। यहां भी जन्मतिथि का फार्मूला ही अपनाया गया है। यानि बड़े बच्चों को लैपटॉप और छोटे बच्चे सूची से आउट किए जाएंगे।

 

यूपी बोर्ड में हाईस्कूल और इंटर के 217-217 बच्चों को लैपटॉप दिया जाएगा। सीबीएसई में दोनों कक्षाओं के 20-20 बच्चों का चयन होगा। आईसीएससी बोर्ड में हाईस्कूल के 11 और इंटर के नौ बच्चों को लैपटॉप दिया जाना है।

यहां से आने हैं लैपटॉप

सत्र 2013 के बच्चों को लैपटॉप वितरित किए थे। तब से बागपत में 138 लैपटॉप रखे हैं। इसके अलावा मैनपुरी से 97, बुलंदशहर से 101, गौतमबुद्धनगर से 119 और मेरठ से 39 लैपटॉप बागपत मंगाए जाएंगे।

सत्यापन के बाद मिलेंगे लैपटॉप

राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान में सहायक वित्त एवं लेखाधिकारी नीरज कुमार बताते हैं कि जन्मतिथि का फार्मूला अपनाया गया है। इन दिनों बच्चों के सत्यापन का कार्य चल रहा है। सत्यापन के बाद अन्य जिलों से लैपटॉप मंगाए जाएंगे। शासन को अवगत कराया जाएगा। सत्यापन के बाद ही लैपटॉप वितरण की तिथि की घोषणा शासन की ओर से की जाएगी। इसके बाद बच्चों को लैपटॉप मिलेंगे।

छात्रों के हाथों से फिसला अखिलेश सरकार का लैपटॉप!

| उत्तर प्रदेश, लखनऊ | 0 Comments
About The Author
-