mohammadnasir_

एनआईए ने आतंकवादी संगठन आईएस के ऑपरेटिव मोहम्मद नासिर के खिलाफ चार्जशीट दायर की है। चेन्नई से ही इंजीनियरिंग करने वाले नासिर ने ही आईएस के लिए झंडे का डिजाइन और लोगो तैयार किया था।

एनआईए ने चार्जशीट में नासिर के पिता को मुख्य गवाह बनाया है। एनआईए ने कहा कि पिछले साल दिसंबर में गिरफ्तारी से पहले वो सीरिया जाने की फिराक में था, लेकिन वो सूडान पहुंच गया था। हालांकि, उसे सूडान में ही गिरफ्तार कर लिया गया था।

नासिर के पिता आमिर मोहम्मद को जब पता चला कि उनका बेटा सीरिया में लड़ने जा रहा है तो वो दुबई से भारत आ गए। टाइम्स ऑफ इंडिया में छपी खबर के मुताबिक, एनआईए ने आमिर के बयानों को सीआरपीसी की धारा 164 के तहत दर्ज किया है। अपने बेटे के खिलाफ आमिर को अहम गवाह बनाया गया है।

एनआईए जज अमर नाथ के समक्ष दायर चार्जशीट में कहा गया है कि नासिर जब सूडान में था तब उसने अपने पिता को एक इमोशनल ई मेल भेजा था। इस मेल में उसने लिखा था कि ‘मैं यहां पर खुश हूं। मां और सुमइया का ख्याल रखना। मैं यहां पर एकदम सुरक्षित हूं। मैं चाहता हूं कि आप सब दवालला आएं।’

एनआईए ने नासिर और उसके पिता के बीच ईमेल और वाट्सअप के जरिए हुई बातचीत को ठोस सबूत के तौर पर पेश किया है। चार्जशीट में कहा गया है कि ‘आरोपी ने अपने पिता को बताया था कि उसने आईएस को ज्वाइन कर लिया है और उसके लिए अब मुख्यधारा में लौटना मुमकिन नहीं है।’ चार्जशीट पर विचार करने के लिए अब अदालत 9 जून को विचार करेगी।

चार्जशीट के मुताबिक 23 वर्षीय नासिर चेन्नई के एक कॉलेज से बीई करने के बाद साल 2014 में नौकरी की तलाश में दुबई चला गया था। उसने 2500 दिरहम प्रति महीने की सैलरी पर वेब डेवलपर और ग्राफिर डिजाइनर के तौर पर काम किया। आईएस का वीडियो देखने के बाद वो कट्टरपंथी हो गया था।

इसके बाद उसने अपने मालिक से अपना पासपोर्ट चुराया और बिना बताए सूडान के लिए निकल गया। वह ऑनलाइन ग्रुप के जरिए जयपुर में इंडियन ऑयल के मैनेजर मोहम्मद सिराजुद्दीन के संपर्क में था। उसे बीते साल ही गिरफ्तार कर लिया गया था जब वो अपने परिवार के साथ सीरिया जाने की तैयारी में था। एनआईए शनिवार को सिराजुद्दीन के खिलाफ भी चार्जशीट दायर करेगी।

चेन्नई में पढ़े इंजीनियर नासिर ने डिजाइन किया आईएस का झंडा

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-