समाजवादी पार्टी के भीतर मचा घमासान और बड़ा रूप ले सकता है। अखिलेश यादव और मुलायम खेमे के बीच मची जंग अब सपा के चुनाव चिन्ह पर कब्जा करने तक आ पहुंची है। चुनाव चिन्ह साइकिल के साथ पार्टी के नाम को लेकर भी दोनों धड़ा आमने सामने है।

पार्टी और चुनाव निशान पर दावा ठोकने के लिए सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव ने सोमवार को चुनाव आयोग का दरवाजा खटखटाया है। उन्होंने चुनाव आयोग को कहा है कि साइकिल का निशान समाजवादी पार्टी का है और मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की ओर से बुलाए गए सम्मेलन में लिए गए सभी फैसले असंवैधानिक हैं। उन्होंने अयोग को कहा है कि वह ही सपा के राष्टï्रीय अध्यक्ष हैं। दूसरी तरफ अखिलेश धड़ा भी समाजवादी पार्टी के नाम और चुनाव निशान पर दावा ठोकेगा।

सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव से मुलाकात के दौरान मुख्य चुनाव आयुक्त नसीम जैदी समेत तीनों चुनाव आयुक्त मौजूद थे। मुलायम सिंह के साथ शिवपाल यादव, राज्यसभा सांसद अमर सिंह और पूर्व सांसद जया प्रदा भी मौजूद थी। आयोग से मुलाकात से पहले दोनों धड़ों ने एक दूसरे पर निशाना साधा है। मुलायम सिंह ने कहा है कि उन्होंने समाजवादी पार्टी को बड़ी मेहनत से खड़ा किया है।

साइकिल का निशान समाजवादी पार्टी का है। वहीं शिवपाल सिंह यादव ने कहा है कि मुलायम सिंह यादव ही पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं और रहेगे। उन्होंने खुद के बारे में कहा कि वह मरते दम तक पार्टी में रहेंगे और वे नेताजी के साथ है।

उधर रामगोपाल यादव ने भी मुलायम सिंह यादव पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा है कि मुलायम सिंह यादव सुप्रीम कोर्ट के जज नहीं है। उन्हें पार्टी के संविधान की पूरी जानकारी है। सुबह 11 बजे के करीब उन्होंने कहा कि चुनाव आयोग से मिलने का कोई समय नहीं लिया है। जिनको आपत्ति है। वे चुनाव आयोग से मिलने जाये। मगर देर शाम तक उनकी ओर से भी मिलने का समय मांगा गया है। आयोग ने सुबह 11:30 बजे का समय दिया है।

मुलायम सिंह यादव ने चुनाव आयोग से मुलाकात की। साथ में अमर सिंह, शिवपाल सिंह यादव और जया प्रदा भी मौजूद थे।

चुनाव आयोग के दफ्तर से लौटे मुलायम

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-