परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह (एनएसजी) में भारत की दावेदारी को लेकर दुनियाभर के देशों के चल रहे मान-मनौव्वल के बीच प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अब सीधे रूस के राष्ट्रपति से ब्लादिमीर पुतिन से फोन पर बात की। भारत के संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में स्थायी सदस्यता से लेकर एनएसजी सदस्य बनने के वैश्विक महत्वाकांक्षा का रूस हमेशा से नई दिल्ली का समर्थक रहा है। ये अलग बात है कि उसके बावजूद पीएम मोदी की कूटनीति अमेरिका पर केन्द्रित रही है।

खबर के मुताबिक क्रेमलिन की तरफ से जारी बयान के मुताबिक, शनिवार को ये फोन कॉल्स पीएम नरेन्द्र मोदी की तरफ से की गई थी। इसमें कहा गया- दोनों नेताओं ने आपसी द्विपक्षीय संबंधों को और बेहतर बनाने पर जोर दिया है जिसकी विशेषता रणनीतिक साझेदारी रही है।

पीएम मोदी और राष्ट्रपति पुतिन के जल्द मिलने जा रहे हैं। बयान में आगे कहा गया है- बातचीत का मुख्य मुद्दा दोनों देशों के बीच आपसी सहयोग को लेकर व्यवहारिक मुद्दों पर की गई। इनमें दोनों देशों के शीर्ष अधिकारियों के बीच जल्द होने जा रही बातचीत को लेकर की जा रही तैयारियां भी शामिल है।

पीएम मोदी ताशकंद में एनएसजी अधिवेशन से पहले आनेवाला दिनों में कई बड़ी बैठकें कर सकते हैं। जिनमें उनका शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) सम्मेलन से इतर चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग से मुकालाकत भी संभव है।

 

चीन के अड़ंगे के बाद एनएसजी के लिए मोदी ने पुतिन से की बात

| देश विदेश | 0 Comments
About The Author
-