crime_1465925082

मुखबिर की सटीक सूचना पर पुलिस ने अंबेडकरनगर चौराहे के पास नशीले पदार्थ के एक तस्कर को दबोच लिया। पर चरस का पैकेट बरामद करने में पुलिस के पसीने छूट गए।

बाइक का पुर्जा-पुर्जा तक खंगाल डाला। कपड़े और जूते-मोजे तक तीन-तीन बार उतरवाकर देख लिया। आखिर में हेलमेट के भीतर काली पन्नी में छुपाकर रखी 450 ग्राम चरस मिल गई।

खास बात है कि नशीले पदार्थ का यह तस्कर पहले भी लगभग 25 बार पकड़ा जा चुका है पर माल बरामद न हो पाने की वजह से हर बार पुलिस की गिरफ्त से बचकर निकलता रहा।

एसओ गोमतीनगर धीरेंद्र कुमार शुक्ला ने बताया कि पकड़े गए तस्कर का नाम सचिन सक्सेना है। वह लखीमपुर खीरी में पलिया नई बस्ती ढाकिन का मूल निवासी है।

पूछताछ में उसने बताया कि वह लखीमपुर खीरी से ही चरस का पैकेट खरीदकर लाता है और यहां बेच देता था। पिछले कई साल से वह नशीले पदार्थ की तस्कारी में लिप्त है।

एसओ गोमतीनगर धीरेंद्र कुमार शुक्ला ने बताया कि सचिन को आधे किलो का एक पैकेट अपने ग्राहकों को बेचने पर पांच हजार रुपये का मुनाफा होता था।

लखीमपुर खीरी में बड़े एजेंटों से उसे चरस का एक पैकेट 15 हजार रुपये का मिलता था, जिसे वह लखनऊ में 20 हजार रुपये में अपने ग्राहकों को बेच देता था।

चरस ढूढ़ने में पुलिस के छूटे पसीने

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-