भारतीय क्रिकेट के इतिहास में आज के दिन (13 जुलाई) का विशेष महत्व है। टीम इंडिया ने 2002 में इसी दिन लॉर्ड्‍स पर इंग्लैंड को 2 विकेट से हराकर नेटवेस्ट ट्रॉफी पर कब्जा जमाया था। मोहम्मद कैफ और युवराज सिंह के करिश्माई प्रदर्शन की वजह से भारत हिमालयी लक्ष्य हासिल कर पाया था, लेकिन इस मैच को कप्तान सौरव गांगुली द्वारा लॉर्ड्‍स की बालकनी में टीशर्ट‍ निकालकर लहराने के चलते ज्यादा याद किया जाता है।

भारत के लिए इस मैच को जीतना आसान नहीं था, क्योंकि उसके सामने 326 रनों का कठिन लक्ष्य था। इस विशाल लक्ष्य का पीछा करते 146 रनों के अंदर भारत की आधी टीम पैवेलियन लौट चुकी थी जिनमें कप्तान गांगुली, वीरेंद्र सहवाग, सचिन तेंडुलकर और राहुल द्रविड़ जैसे दिग्गज शामिल थे। इसके बाद कैफ ने युवराज (69) के साथ 121 रनों की भागीदारी कर टीम की जीत में अहम भूमिका निभाई। युवी के आउट होने के बाद कैफ ने हिम्मत नहीं हारी और 75 गेंदों में 6 चौकों व 2 छक्कों की मदद से 89 रन बनाकर नाबाद रहते हुए टीम को ऐतिहासिक जीत दिलाई।

इससे पहले इंग्लैंड ने मार्कस ट्रेस्कोथिक (109) और कप्तान नासिर हुसैन (115) के शतकों की मदद से 5 विकेट पर 325 रन बनाए थे। ट्रेस्कोथिक और हुसैन ने दूसरे विकेट के लिए 185 रनों की भागीदारी कर स्कोर को मजबूती प्रदान की थी।

टीम इंडिया ने ऐतिहासिक जीत दर्ज की और कप्तान गांगुली ने इसकी खुशी लॉ्र्ड्‍स की बालकनी में टीशर्ट निकालकर लहराते हुए की थी। कप्तान ने इसके जरिए अपनी आक्रामकता का इजहार किया था। वास्तव में उन्होंने ऐसा एंड्रयू फ्लिंटॉफ द्वारा भारत में की गई हरकत का बदला लेने के लिए किया था। लॉर्ड्‍स पर 1983 विश्व कप जीत के बाद यह भारत की दूसरी बड़ी सफलता थी।

गांगुली ने लॉर्ड्‍स में आज ही के दिन लहराई थी टीशर्ट

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-