सिने जगत में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहचान बनाने वाले ओम पुरी का शुक्रवार सुबह दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया। वह 66 साल के थे। उनके निधन से पूरी फिल्म ‌इंडस्ट्री शोक में डूब गई है। एक्टर रजा मुराद का कहना है कि वो इन दिनों काफी शराब पीने लगते थे। फिल्म इंडस्ट्री के लिए ये एक बहुत बड़ा नुकसान है। रजा मुराद ने कहा कि ओम पुरी के बारे में बोलने के लिए उनके पास शब्द नहीं हैं।

ओम पुरी का जन्म अंबाला के एक पंजाबी परिवार में हुआ था। ओम पुरी के घर की आर्थिक स्थिति इतनी खराब थी कि वो कोयला बीनकर अपना पेट भरते थे। इतना ही नहीं परिवार की जरूरतों को पूरा करने के लिए उन्होंने सात साल की उम्र में एक ढाबे पर भी काम किया। यहां वो बर्तन धोने का काम करते थे। कुछ दिनों बाद ही मालिक ने उन पर चोरी का इल्जाम लगाया और नौकरी से निकाल दिया।

ओमपुरी ने ननिहाल में ही अपनी प्रारंभिक पढ़ाई पूरी की। इसी दौरान उनका रूझान अभिनय की तरफ हुआ। वह नाटकों में हिस्सा लेने लगे। ओमपुरी कॉलेज में पढ़ाई के साथ एक वकील के यहां मुंशी की नौकरी भी करते थे।

ओम पुरी ने फिल्म एंड टेलिविजन इंस्टिट्यूट पुणे से पढ़ाई की थी। ओमपुरी ऐसे अभिनेताओं में से थे जिन्होंने इंटरनेशल लेवल पर अपनी पहचान बनाई थी। ईस्ट इज ईस्ट, सिटी ऑफ ज्वॉय, वुल्फ, द घोस्ट एंड डार्कनेस जैसी हॉलीवुड फिल्मों में भी उन्होंने अपने उम्दा अभिनय की छाप छोड़ी थी। ओमपुरी का निजी जीवन कई बार विवादों में आया। उन्होंने दो शादी की हैं। पहली पत्नी का नाम सीमा है जिनसे तलाक लेकर उन्होंने नंदिता पुरी से शादी की थी। दोनों का एक बेटा ईशान भी है।

साल 1980 में प्रदर्शित फिल्म ‘आक्रोश’ ओम पुरी के सिने करियर की पहली हिट फिल्म साबित हुई थी। गोविन्द निहलानी निर्देशित इस फिल्म में ओम पुरी ने एक ऐसे शख्स का किरदार निभाया था जिस पर पत्नी की हत्या का आरोप लगाया जाता है। फिल्म में अपने दमदार अभिनय के लिए ओमपुरी को सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता के फिल्म फेयर पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।

कोयला बीनकर पेट पालते थे ओमपुरी

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-