imran-masood_1464075309

मिशन-2017 के लिए अपनी जमीन तलाश रही कांग्रेस ने विवादित चेहरे पर दांव खेल दिया है। लोकसभा चुनाव में ‘…बोटी-बोटी’ के बयान से सुर्खियों में आए पूर्व विधायक इमरान मसूद को प्रदेश उपाध्यक्ष बनाया गया है।

लोकसभा चुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी इमरान मसूद का उस समय भाजपा के पीएम प्रत्याशी नरेंद्र मोदी पर आपत्तिजनक टिप्पणी का वीडियो वायरल हुआ था। इसके बाद विवादित बयान पर उन्हें जेल भी जाना पड़ा था।

असहिष्णुता के मुद्दे पर आक्रामक रही कांग्रेस ने यूपी में चुनावी चौसर बिछानी शुरू कर दी है। मुस्लिम मतदाताओं को रिझाने के लिए पार्टी ने विवादित चेहरों को भी अपनाने में गुरेज नहीं किया है।

यही कारण है कि लोकसभा चुनाव 2014 में विवादित कांग्रेस प्रत्याशी रहे इमरान मसूद को प्रदेश कार्यकारिणी में महत्वपूर्ण जिम्मेदारी दी गई है। पूर्व विधायक इमरान मसूद का एक वीडियो लोकसभा चुनाव के दौरान वायरल हुआ था, जिसमें वे भाजपा के प्रधानमंत्री पद के प्रत्याशी नरेंद्र मोदी की बोटी-बोटी करने की बात रहे थे।

इसके बाद चुनाव में ध्रुवीकरण हो गया। हालांकि चुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी को चार लाख से ज्यादा मत मिले थे, मगर उन पर सांप्रदायिकता का दाग भी लगा। इसके बाद वर्ष 2014 में ही सहारनपुर दंगों में भी इमरान मसूद को आरोपी बनाया गया।

इसमें उन पर एक वर्ग विशेष को भड़काने का आरोप लगा था। मगर, पुलिस की जांच रिपोर्ट में इनका नाम निकाल दिया गया था।

इससे पहले नगर पालिका चेयरमैन रहने के दौरान भी भ्रष्टाचार के एक मामले में इमरान मसूद आरोपी रहे थे। नगर पालिका परिसर में एक झगड़ा भी पूरे जिले में लंबे समय तक चर्चा में रहा था।

हालांकि लोकसभा चुनाव के बाद इमरान मसूद कांग्रेस के मुस्लिम चेहरे के रूप में जगह बनाने की पुरजोर कोशिश में रहे। देवबंद में हुए उपचुनाव में कांग्रेस की जीत के बाद उन्होंने पार्टी में अपनी जगह भी बनाई।

कांग्रेस ने खेला विवादित चेहरे पर दांव

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-