index

लंदन। कश्मीर मुद्दे के अंतरराष्ट्रीयकरण करने के पाकिस्तानी मुहिम को झटका लगा है। ब्रिटेन की पीएम थेरेसा मे ने साफ कर दिया कि कश्मीर के मामले में दोनों देशों को मिलजुल कर हल निकालना चाहिए। ब्रिटेन पहले से ये मानता रहा है कि कश्मीर दोनों देशों के बीच का मुद्दा है, इसमें किसी तीसरे देश के दखल की जरूरत नहीं है।

हाउस ऑफ कॉमन्स में पीएम थेरेसा मे से सवालजवाब के दौरान पाकिस्तानी मूल के सांसद यास्मीन कुरैशी ने कश्मीर मुद्दे को उठाया था। कुरैशी ने पूछा कि अगले महीने भारत दौरे के समय क्या ब्रिटिश पीएम कश्मीर मुद्दे को उठाएंगी। कश्मीरियों के आत्मनिर्णय के अधिकार पर कुठाराघात हो रहा है। 1948 में ये साफ कहा गया कि कश्मीरियों को आत्मनिर्णय का अधिकार होगा। लेकिन भारत ने उस भावना का तो सम्मान किया, ही कानूनी अधिकारों को मान्यता देता है।

थेरेसा मे ने कहा कि जब उन्होंने ब्रिटेन की बागडोर संभाली थी, उसी दिन साफ कर दिया था कि कश्मीर मुद्दे पर ब्रिटेन दखल नहीं देगा। उन्होंने का कि ब्रिटेन की नीति साफ है दो देशों के बीच विवादित मुद्दों पर वो कभी दखल नहीं देगा।

थेरेसा मे 6 नवंबर को भारत दौरे पर रही हैं। यूरोप के बाहर उनका ये पहला विदेशी दौरा है।

कश्मीर मुद्दे पर ब्रिटेन दखल नहीं देगा: थेरेसा

| देश विदेश | 0 Comments
About The Author
-