मुलायम सिंह यादव से बगावत के बाद मुख्यमंत्री अखिलेश यादव का अब कांग्रेस से हाथ मिलाकर चुनाव मैदान में उतरना लगभग तय हो गया है। जानकारों की मानें तो गठबंधन की जमीन तैयार हो गई है और कभी भी इसका औपचारिक एलान हो सकता है। जानकारी के मुताबिक, कैम्‍पेन में अखिलेश और डिंपल यादव के साथ राहुल और प्रियंका गांधी भी शामिल होंगे। ऐसे संकेत भी मिल रहे हैं कि इस बार के चुनाव में प्रियंका काफी एक्टिव रहेंगी। ये पहला मौका होगा, जब 27 साल से यूपी की सत्‍ता से दूर कांग्रेस सपा के साथ चुना लड़ेगी। कांग्रेस की रैलियों के लिए स्ट्रैटजी प्रशांत तैयार करेंगे…

– कांग्रेस नेताओं का मानना है कि यूपी में सपा से अलायंस का फायदा हो सकता है। यूपी में कांग्रेस की रैलियों की स्‍ट्रैटजी प्रशांत किशोर ही तैयार करेंगे।

– सीनियर जर्नलिस्‍ट योगेश श्रीवास्‍तव का कहना है कि यूपी में कांग्रेस हमेशा गठबंधन के जरिए सत्‍ता में रही है। कांग्रेस का बसपा से ऐसे ही गठबंधन हुआ था। हालांकि, ये पहला मौका होगा, जब कांग्रेस का सपा से गठबंधन होगा।

– माना जा रहा है कि असली जंग बीजेपी और बसपा के बीच ही होनी है। और सपा के लिए अलायंस जरूरी जबकि कांग्रेस के लिए ये मजबूरी है।

सपा में लड़ाई के चलते गठबंधन में देरी

– सूत्रों के मुताबिक, सपा में चल रही दबदबे की लड़ाई के चलते अलायंस के एलान में देरी हो रही है।

– दरअसल, अखिलेश चाहते हैं कि पहले ये तय हो जाए कि समाजवादी पार्टी और उसके चुनाव चिन्‍ह साइकिल पर उनका अधिकार है या नहीं।
– बता दें, समाजवादी पार्टी के दोनों खेमे पार्टी पर अपना हक जताते हुए चुनाव आयोग जा चुके हैं। माना जा रहा है कि 13 जनवरी तक आयोग अपना फैसला सुना देगा।

– सूत्रों की मानें तो अगर फैसला अखिलेश के पक्ष में आता है तो उसी दिन कांग्रेस से गठबंधन का एलान कर दिया जाएगा।

कभी भी हो सकती है गठबंधन की घोषणा

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-