asaduddin-owaisi_1457954440

एमआईएम के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने केंद्र सरकार पर मुस्लिमों के साथ भेदभाव का आरोप लगाते हुए आंतकी संगठन आईएसआईएस के संदिग्धों को कानूनी मदद मुहैया करानी की बात कही है।

तीन दिन पहले खुफिया एजेंसी एनआईए ने हैदराबाद से 11 लोगों को हिरासत में लिया था, एजेंसी के         मुताबिक उनमें से पांच ने कबूला था कि वे आतंकी सरगना के इशारे पर मंदिर में बीफ के टुकड़े रखकर सांप्रदायिक दंगे कराना चाहते थे और कुछ जगहों पर बम धमाके करने की भी योजना थी।

सभी संदिग्ध युवा और पढ़े-लिखे बताए गए थे। कुछ एक ने इंजीनियरिंग की पढ़ाई भी की थी। इनमें से पांच संदिग्धों की मदद के लिए ओवैसी ने ऐलान किया है।

ओवैसी ने हैदराबाद की मक्का मस्जिद में कहा कि उन्होंने वरिष्ठ वकील अब्दुल अजीम को मुकदमा लड़ने की जिम्मेदारी सौंपी है। ओवैसी ने इस मदद के पीछे संदिग्धों के परिजनों का हवाला दिया। ओवैसी ने बताया के संदिग्धों के परिजनों ने उनसे मदद की गुहार की थी।

ओवैसी आईएसआईएस के संदिग्धों को कानूनी मदद जरूर दे रहे हैं लेकिन उन्होंने आतंकी संगठन की घोर निंदा की। उन्होंने आईएसआईएस के लड़ाकों को बलात्कारियों और आतंकवादियों से भी बदतर करार दिया, ये भी कहा कि इस्लाम का आतंकवाद से कोई लेना-देना नहीं है।

ओवैसी ने आईएसआईएस की मानसिकता में सुधार लाने के लिए आल्लाह से दुआ करने की बात कही और कहा कि मुसलमान हमेशा देश के प्रति वफादार रहे हैं।

ओवैसी ने हरियाणा में मुस्लिम युवकों को गोबर खिलाने और पेशाब पिलाने वाली बात पर पीएम नरेंद्र मोदी को घेरा, और कहा कि पीएम मोदी अब तक इस मसले पर चुप क्यों हैं?

 

 

 

 

 

ओवैसी ISIS के संदिग्धों को कानूनी सहायता देंगे

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-