21_10_2016-20upw03

एटा। भूख और गरीबी के चलते लोग एक दूसरे के दुश्मन बन बैठे थे। कबीले के कबीले एक दूसरे के खून के प्यासे थे। न रिश्तों की अहमियत बची थी न कोई सरोकार। पर अफ्रीका महाद्वीप के कांगो गणराज्य में शांति दूत बनकर गए एटा के एनएसजी कमांडो संदीप मिश्रा ने अपनी काबलियत से सबको मुरीद बना डाला। गोली और बोली का इस तरीके से इस्तेमाल किया कि कबीलों की तस्वीर बदल गई। संयुक्त राष्ट्र संघ की ओर से तौसीर के लाल संदीप को शांति सेवा पदक से नवाजा है। इस उपलब्धि से परिवार के साथ पूरे गांव की दीपावली और ज्यादा जगमग हो गई है।
कांगो गणराज्य में विद्राहियों से चल रहे संघर्ष में संयुक्त राष्ट्र के सदस्य देशों की सेनाएं लड़ रहीं हैं। मूल रुप से अलीगंज के गांव तौसीर के स्व. रामसेवक मिश्रा के छोटे बेटे संदीप मिश्रा चार साल पहले सेना में भर्ती हुए और कुछ समय बाद ही उनका चयन नेशनल सिक्योरिटी गार्ड (एनएसजी) में हो गया। बेहद कठिन ट्रेङ्क्षनग लेने के बाद पासआउट होते ही उन्हें शांति सेना का सदस्य बनाकर कांगो भेज दिया गया। जहां उन्होंने लड़ाई के साथ कबीलों में बंटे समाज को मुख्य धारा में आने के लिए प्रेरित भी किया।
कांगो गणराज्य में आठ महीने बिताकर लौटे संदीप ने बताया कि वहां भूख-गरीबी से तंग लोग छोटे-छोटे कबीलों में बंटे हुए हैं। यह कबीले हथियारों के डिपो लूटकर ताकतवर बन जाते हैं। इनके सदस्यों को समझाना बेहद कठिन है। हमारी टीम पर विद्रोहियों ने हमले भी किए। पर हम कई कबीलों की दुश्मनी खत्म कराने में कामयाब रहे।
संदीप ने बताया कि संयुक्त राष्ट्र संघ की शांति सेना कमेटी की कोर टीम पुरस्कारों के लिए हजारों जवानों में से किसी एक का चयन करती है। इस बार पदक के लिए मेरा नाम चुना गया। दस दिन पूर्व कांगो के गोमा शहर में हुए सैन्य समारोह में संयुक्त राष्ट्र संघ के अधिकारियों ने पदक प्रदान किया। इसके बाद मैं अवकाश पर अपने गांव आया हूं। अविवाहित संदीप कहते हैं कि पदक मिलना वो भी विदेश में मेरे लिए बड़े गौरव की बात है। इसके लिए भारतीय सैन्य अफसरों ने भी बधाइयां दी हैं। शांति सेवा पदक मिलने से संदीप का पूरा गांव खुश है। लोग उन्हें बधाइयां दे रहे हैं। गांव के महेश चंद्र का कहना है कि हम सब गर्व महसूस कर रहे हैं कि संयुक्त राष्ट्र के अभिलेखों में हमारे गांव तौसीर का नाम दर्ज हुआ।

 

 

 

 

 

एटा के लाल एनएसजी कमांडो संदीप ने जीता यूएनओ का दिल

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-