kanpur_1471593027

केंद्रीय जल संसाधन नदी विकास मंत्री उमा भारती ने कहा है कि‍ हर काम अपने समय पर पूरा होता है। साल 2018 के अक्टूबर महीने में नमामि गंगे का दूसरा फेज लोगों को दिखने लगेगा। उनके साथ सांसद डॉ. मुरली मनोहर जोशी भी मौजूद रहे। जोशी ने कहा कि जबतक गंगा अविरल नहीं बहेंगी तब तक इनका निर्मल होना मुश्किल है। उमा ने और क्या कहा

– कानपुर में नमामि गंगे के तीन प्रोजेक्ट का शुभारम्भ करने आयी उमा भारती ने कहा कि गंगा नदी अपने आर्थिक, पर्यावरणीय, सामाजिक, धार्मिक और सांस्कृतिक मूल्यों के साथ भारत की सबसे पवित्र नदी है।
– यह नदी गंगा किनारे रहने वाले करोड़ों लोग जो अपनी दैनिक जरूरतों के लिए इस पर निर्भर है, उनके लिए जीवनदायिनी है।
– नमामि गंगे कार्यक्रम, गंगा नदी को बचाने का एक प्रयास है।
– इनके मुताबिक़ राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन, जल संसाधन, नदी विकास एवं गंगा संरक्षण मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा 7 राज्यों में नमामि‍ गंगे के अंतर्गत काम कि‍या जाएगा।
– उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड, पश्चिम बंगाल, दिल्ली और हरियाणा में नमामि गंगे कार्यक्रम के अंतर्गत आने वाली गतिविधियों का क्रियान्वयन प्राथमिकता के तौर पर किया जा रहा है।
– इसके तहत 7 जुलाई 2016 को 7 राज्यों में 231 परियोजनाओं का एक ही समय पर अलग-अलग स्थानों पर एक साथ शुभारंभ किया गया।

घाटों का आधुनिकीकरण शुरू किया

– इसमें विभिन्न घाटों के नवीनीकरण, सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट पुनर्वास एवं विकास, अन्य घाटों का आधुनिकीकरण वृक्षारोपण, जैव विविधता संरक्षण जैसी परियोजनाओं का शुभारंभ किया गया।
– इन्होंने कहा कि 7 जुलाई 2016 को कानपुर में भी 11 घाटों और 2 शवदाह गृहों का शुभारंभ किया गया था।
– उमा भारती ने कहा कि 63 करोड़ रूपए की लागत से निर्मित सीसामऊ नाला के ऊपर आई और डी के कार्य का शुभारम्भ किया जाएगा।
– सीवेज के नेटवर्किंग के लिए 397 करोड़ रुपए खर्च किए जाएंगे।
– बिठुर में रिवर फ्रंट के विकास के लिए 100 करोड़ रुपए से ज्यादा का प्रावधान किया गया, जिसमें बिठूर में 14 घाटों और 5 शवदाह गृहों का शुभारम्भ किया जाएगा

उमा भारती ने नमामि गंगे के कार्यक्रम में कहा- हर चीज अपने समय पर ही पूरा होता है

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-