उत्तराखंड विधानसभा चुनाव की तारीख 15 फरवरी घोषित किए जाने पर प्रदेश कांग्रेस ने आपत्ति जताई है। जल्द ही प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष किशोर उपाध्याय इस संबंध में एक पत्र चुनाव आयोग को लिखेंगे।

किशोर उपाध्याय का कहना है कि चुनावी कार्यक्रम में इस बात का ध्यान नहीं रखा कि उस दौरान राज्य के पर्वतीय इलाकों में बर्फ जमी रहती है।

किशोर उपाध्याय का कहना है कि एक ओर चुनाव आयोग मतदान प्रतिशत बढ़ाने के लिए लोगों को प्रेरित करता है लेकिन उत्तराखंड की चुनाव तारीख घोषित करते समय इस बात का ध्यान नहीं रखा गया है।

उनका कहना है कि राज्य की 35 विधानसभा सीटें ऐसी हैं जहां 15 फरवरी के आसपास बर्फ रहती है। ऐसे में चुनाव के इंतजाम के साथ सुदूर गांवों में रहने वालों को मतदान का अधिकार दिलाना चुनौती होगा।

उन्होंने बताया कि आयोग से अपील की गई थी कि चुनाव या तो 15 दिसंबर तक करा लिए जाते या फिर मार्च के महीने में होते।

किशोर का कहना है कि बड़ी संख्या में ऐसे पोलिंग बूथ होंगे जहां तक पहुंचना लोगों के लिए मुश्किलों भरा होगा और मतदान कम होगा।

किशोर ने राज्य के अधिकारियों के प्रति भी नाराजगी जताई। उन्होंने कहा कि आयोग के सामने राज्य का पक्ष ठीक से नहीं रखा। आयोग ने जिन राज्यों का कार्यक्रम घोषित किया है उनमें आखिरी चरण में उत्तराखंड को शामिल किया जाना चाहिए था।

उत्तराखंड में चुनाव की तारीख पर कांग्रेस का ऐतराज, बताई बड़ी वजह

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-