स्‍वीडन के एक छोटे शहर की गलियों में ऐसे पोस्‍टर्स चिपकाएं गए है जो महिलाओं को रेप की धमकी दे रहे हैं। इन पोस्‍टर्स के मुताबिक अगर महिलाएं स्कार्फ नहीं पहनेगी तो उन्‍हें रेप के लिए तैयार रहना चाहिए।

इस तरह के धमकाने वाले संदेशों के स्‍टीकर्स निब्रो की गलियों में चिपके नजर आ रहे हैं जो कि लोकतंत्र को इस्लाम से बदले जाने की बात करते हैं। इन स्‍टीकर्स की तस्‍वीरें सोशल मीडिया में सर्कुलेट हो रही है लेकिन यह पता नहीं चला है कि यह कितने चिपकाएं हैं।

एक स्‍टीकर में लिखा है ‘जो महिलाएं स्‍कार्फ नहीं पहनती है, वे रेप के लिए बुला रही है। वहीं किसी में लिखा है ‘ कोई लोक‍तंत्र नहीं। हम केवल इस्‍लाम चाहते हैं।’

इन स्‍टीकर्स के बारे में पुलिस को पता चला लेकिन उन्‍होंने स्‍वीकारा कि वे नहीं जानते कि इसके लिए कौन जिम्‍मेदार है। कहा जा रहा है कि यह हरकतें दक्षिणपंथी समूहों की है जो कि जातीय घृणा फैलाना चाहते हैं। हाल ही में देश में जातीय हमले भी हुए थे।

साल की शुरूआत में वामपंथी स्‍वीडिश न्‍यूजपेपर के मुताबिक स्टॉकहोम स्‍टेशन पर हिंसा भड़की थी जिसने प्रवासियों को लक्ष्‍य बनाया था जिसमें अफ्रीकी बच्‍चे भी शामिल थे।

 

इस देश में जगह-जगह लगे स्‍टीकर ‘स्‍कार्फ पहनों या रेप के लिए तैयार रहो’

| देश विदेश | 0 Comments
About The Author
-