संगमनगरी इलाहाबाद में नैनी जेल शूटआउट का मास्टर माइंड और शार्प शूटर विमल प्रकाश शर्मा उर्फ मुन्नू तिवारी कल देर शाम पुलिस के हत्थे चढ़ गया। पुलिस ने स्पेशल टास्क फोर्स के साथ मुन्नू तिवारी को गिरफ्तार किया।

वाराणसी के लंका थाना क्षेत्र के डाफी मुहल्ला के मुन्नू को सरपतहिया तिराहे पर कल स्पेशल टॉस्क फोर्स (एसटीएफ) और नैनी पुलिस ने पकड़ा। उसका साथी नवाबगंज निवासी वसीम खान भागने में सफल रहा। अभियुक्त के पास से स्कार्पियो और असलहा बरामद हुआ। पूर्वांचल के कई जिलों में प्रदेश के हिस्ट्रीशीटर मुन्नू के खिलाफ हत्या, हत्या की साजिश रचने और लूट के 12 मुकदमे दर्ज हैं।

एसटीएफ वाराणसी के एडिशनल एसपी ज्ञानेन्द्र सिंह ने बताया कि करीब आठ माह पहले करेली स्थित रायल पैलेस में एक मीटिंग हुई। उसमें मुन्नू, अख्तर कटरा, शैलेन्द्र यादव, राजू पहलवान, लाडे, वसीम, सज्जू खान और दीपक वर्मा शामिल हुए। शैलेन्द्र यादव ने अपने भाई का बदला लेने के लिए ज्ञानचंद्र और उसके भाई संतोष की हत्या की सुपारी मुन्नू को दी। इस काम के लिए 15 लाख रुपये और एक स्कार्पियो मुन्नू को दी गई। सुपारी लेने के बाद मुन्नू ने पूरी वारदात की योजना बनाई। फिर नैनी में बेथनी कान्वेंट स्कूल के पास गुड्डू मामा उर्फ साकिब के मकान में किराए पर रहने लगा। यहीं से वह ज्ञानचंद्र की रेकी करने लगा। इसके बाद पांच जून की शाम सुनियोजित ढंग से नैनी जेल शूटआउट को अंजाम दिया। इसमें शेरडीह निवासी ज्ञानचंद्र और उसके चाचा लालता की मौत हो गई, जबकि छह अन्य लोग जख्मी हो गए थे। पूर्व में 10 हजार का इनामी रहा मुन्नू शूटआउट के बाद लगातार इधर-उधर भागता रहा। गिरफ्तारी के लिए इलाहाबाद के साथ ही वाराणसी की पुलिस टीम लगी हुई थी।

इलाहाबाद में नैनी जेल शूटआउट का मास्टर माइंड गिरफ्तार

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-