नई दिल्ली। आयकर विभाग ने ‘संदिग्ध’ बैंक लॉकरों के खिलाफ कार्रवाई शुरू कर दी है। गौरतलब है कि सरकार की ओर से 8 नवंबर को 500 और 1,000 रुपए के नोटों को बंद किए जाने की घोषणा की गई थी। इसके बाद से कई बार संचालित होने वाले बैंक लॉकर्स की डिटेल आयकर अधिकारी मांग रहे हैं, खासतौर पर सहकारी बैंकों की।

एक सरकारी अधिकारी ने कहा कि बेनामी बैंक लॉकर्स के स्वामित्व की जांच की जा रही है। दरअसल, इनका इस्तेमाल अवैध गतिविधियों और अवैध नकदी आदि को रखने के लिए किया जा रहा है।

अधिकारी ने कहा कि इस मुहिम का मकसद काला धन को सामने लाना है। बैंक लॉकर्स को सील नहीं किया जाएगा। बेनामी लॉकर्स वे होते हैं, जो किसी दूसरे के नाम से खोले जाते हैं और उनका संचालन कोई दूसरा व्यक्ति करता है।

आयकर विभाग ने ‘संदिग्ध’ बैंक लॉकरों के खिलाफ कार्रवाई शुरू की

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-