indian-railways_2016826_105044_26_08_2016

 

पटना। भारतीय रेलवे ऑनलाइन रेलवे के टिकट बुक करने वाले यात्रियों को एक रुपए से भी कम में 10 लाख रुपए का बीमा दे रहा है। रेल यात्रियों को 31 अगस्त से इस स्कीम का फायदा मिलने लगेगा।

IRCTC ने इस स्कीम के लिए तीन इंश्योरेंस कंपनियों से करार किया है, इसकी वेबसाइट से रेल टिकट बुक करते समय आपको इस स्कीम को चुनना होगा और इसके लिए आपको सिर्फ 92 पैसे चुकाने होंगे।

इस स्कीम के तहत यात्रियों को रेल दुर्घटना में मौत या पूर्ण विकलांगता पर 10 लाख रुपए, आंशिक विकलांग होने की स्थिति में 7.5 लाख रुपए और हॉस्पिटलाइजेशन के खर्च के लिए 2 लाख रुपए तक दिए जाएंगे।

पायलट प्रोजेक्ट के तौर फिलहाल साल भर के लिए लागू इस स्कीम का फायदा यात्रियों को ट्रेन में आतंकी हमला, डकैती, गोलीबारी और आगजनी की घटनाओं पर भी होगा।

जल्द ही रेलगाड़ी से सफर करने पर आपको यात्रा बीमा भी हासिल होगा, जो पूरे 10 लाख रुपए का होगा।दिलचस्प है कि आपको इसके प्रीमियम के तौर पर महज 92 पैसे चुकाने होंगे।

भारतीय रेलवे इसी साल सितंबर में दुनिया की सबसे सस्ती यात्रा बीमा योजना शुरू करने जा रहा है, जिसके लिए उसने श्रीराम जनरल इंश्योरेंस कंपनी, आईसीआईसीआई लोम्बार्ड जनरल इंश्योरेंस और रॉयल सुंदरम जनरन इंश्योरेंस को चुना है।

इन तीन कंपनियों का चुनाव टेंडर प्रक्रिया से हुआ है, जिसमें 17 प्रमुख बीमा कंपनियों ने हिस्सा लिया था।शुरुआत में यात्रा बीमा की यह योजना ऑनलाइन टिकट बुक कराने वालों के लिए ही होगी।

बाद में मासिक टिकट (एमएसटी) पर चलने वाले यात्रियों को भी यह सुविधा मिलेगी। उन्हें 10 लाख रुपए के बीमा के लिए सालाना 200 से 300 रुपए प्रीमियम देना पड़ सकता है।

IRCTC के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक ए के मनोचा ने बताया, ‘यह दुनिया की सबसे सस्ती बीमा योजना हो सकती है। किसी भी श्रेणी का टिकट हो, कहीं भी जाना हो और कितनी भी दूर जाना हो, प्रीमियम और बीमा की रकम एक जैसी ही रहेगी।’

उन्होंने बताया कि शुरुआत में यह बीमा IRCTC की वेबसाइट से ऑनलाइन टिकट खरीदने वालों को मिलेगा। वे टिकट खरीदते समय किसी व्यक्ति को अपना नॉमिनी बना सकते हैं। बाद में अनारक्षित टिकट आौर मासिक टिकट पर यात्रा करने वालों को भी इस बीमा के दायरे में लाया जा सकता है।

यदि मुसाफिर की मौत हो जाती है या वह स्थायी विकलांग हो जाता है तो उसे 10 लाख रुपए दिए जाएंगे। स्थायी आंशिक विकलांगता पर 7.5 लाख रुपये तथा अस्पताल के खर्च के रूप में 2 लाख रुपये तक दिए जाएंगे। रेल दुर्घटना में मारे गए मुसाफिर का शव घर तक पहुंचाने के लिए 10,000 रुपए दिए जाएंगे।

वहीं, ट्रेन पर आतंकी हमला होने और किसी यात्री के दुर्घटनावश गिरने पर भी बीमा का लाभ मिलेगा। सामान्य दुर्घटना, दंगे, लूट और डकैती भी इसके दायरे में आएंगे। चुनी गई तीनों कंपनियों को ऑटोमैटिक प्रणाली के तहत बारी-बारी से बीमा करने का मौका मिलेगा।

इस टेंडर में श्री राम जनरल इंश्योरेंस कंपनी ने सबसे कम 92 पैसे की बोली लगाई थी। आईसीआईसीआई लोम्बार्ड जनरल इंश्योरेंस कंपनी ने 99 पैसे और रॉयल सुंदरम जनरल इंश्योरेंस ने 1.15 रुपये की बोली लगाई।आईसीआईसी लोम्बार्ड जनरल इंश्योरेंस कंपनी और रॉयल सुंदरम जनरल इंश्योरेंस को अपनी बोली घटाकर 92 पैसे करनी होगी।

हैदराबाद के इंश्योरेंस ब्रोकिंग हाउस इंडिया इंश्योर के संस्थापक वी रामकृष्ण ने कहा, ‘इसे सबसे सस्ती यात्रा बीमा योजना बताने वाले आंकड़े तो नहीं हैं। लेकिन इतना तय है कि वैश्विक बाजार के हिसाब से प्रीमियम बहुत कम है।

विमान यात्रा में 75 लाख रुपए तक का बीमा होता है, लेकिन प्रीमियम भी 2,000 से 3,000 रुपए के बीच होता है।’ हवाई यात्रा में एक लाख रुपए के लिए न्यूनतम प्रीमियम 26 रुपए होता है, लेकिन इस रेल बीमा में 9.5 पैसे ही होगा।

विशेषज्ञ इस बात पर संदेह जता रहे हैं कि इतना कम प्रीमियम बीमा कंपनियों के लिए व्यावहारिक होगा या नहीं। फिलहाल 59 फीसद रेल टिकट ऑनलाइन बुक होते हैं। IRCTC की वेबसाइट पर रोजाना औसतन 32 लाख बार लॉगइन किया जाता है और हर दिन करीब 10 लाख यात्रियों के लिए औसतन 5.5 लाख टिकट बुक होते हैं।

 

अॉनलाइन रेल टिकट पर 92 पैसे में 10 लाख रुपए का बीमा

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-