मुंबई। देश से बैंकों का हजारों करोड़ रुपये का कर्ज लेकर भागे शराब कारोबारी विजय माल्या के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी हुआ है। आइडीबीआइ बैंक ऋण मामले में सीबीआइ की मांग पर मुंबई की विशेष अदालत ने यह वारंट जारी किया है।

सीबीआइ अधिकारी ने बताया, ‘अदालत ने माल्या को ब्रिटेन से प्रत्यर्पित कराने के हमारे हलफनामे पर गैर जमानती वारंट जारी किया। इस वारंट को राजनयिक माध्यम से संबंधित देश तक पहुंचाया जाएगा।’ सीबीआइ ने अपने हलफनामे में ब्रिटेन में माल्या का सटीक पता उपलब्ध कराया था।

इसके बाद विशेष न्यायाधीश एचएस महाजन ने वारंट जारी किया। अधिकारी ने बताया कि इससे पहले भी माल्या के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया गया था।

लेकिन उस वक्त जांच एजेंसी के पास माल्या के सही पते की जानकारी नहीं थी। सीबीआइ ने 24 जनवरी को आइडीबीआइ ऋण डिफॉल्ट मामले में नौ लोगों के खिलाफ आरोप पत्र दायर किया था। इन सभी को इससे एक दिन पहले गिरफ्तार किया गया था।

आरोप पत्र में सीबीआइ ने बताया कि नियमों को ताक पर रखकर आइडीबीआइ बैंक ने माल्या की किंगफिशर एयरलाइंस को 1,300 करोड़ रुपये का ऋण दे दिया। इस मामले में बैंक के कई अधिकारियों द्वारा कमीशन लेने और नियमों की अनदेखी के प्रमाण मिले हैं।

एजेंसी ने बताया कि ऋण की राशि में से एक हिस्सा माल्या ने अपने निजी खर्च में भी इस्तेमाल किया था। अदालत ने न्यायिक हिरासत में रखे गए आरोपियों की जमानत याचिका पर भी सुनवाई की। इस मामले में 3 फरवरी को भी सुनवाई होगी। माल्या की गिरफ्तारी नहीं होने के कारण उनके खिलाफ आरोप पत्र नहीं दायर किया जा सका।

अदालत ने माल्या के खिलाफ निकाला गिरफ्तारी वारंट

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-