mqdefault

नई दिल्ली। गुजरात में दलितों पर अत्याचार के खिलाफ देशभर में एक क्रांति पैदा हो रही है। गुजरात मामले के बाद पैदा हुई दलित चेतना की लहर को अंबेडकर युग माना जा रहा है। जातिवाद के विरोध में दलित समुदाय दस दिवसीय पैदल मार्च करने जा रहा है। पांच अगस्त से अहमदाबाद से यह मार्च शुरू होकर 15 अगस्त को ऊना में खत्म होगा। इस मामले में वरिष्ठ पत्रकार दिलीप मंडल ने जानकारी देते हुए लिखा है….

 

इस बार स्वतंत्रता दिवस गुजरात के ऊना में. यह है आजादी की दूसरी लड़ाई. ‪#‎AazadiKooch
दांडी मार्च और नमक सत्याग्रह के 86 साल बाद एक बार फिर देश की सभी निगाहें गुजरात के मानव मुक्ति संग्राम पर टिक गई हैं.
ऊना मार्च को कल अहमदाबाद के आंबेडकर चौक मे से नीला झंडा दिखाकर रवाना किया जाएगा. 15 अगस्त को ऊना में राष्ट्रीय झंडा फहराया जायेगा.
उम्मीद करता हूं कि मैं उस ऐतिहासिक लम्हे का गवाह बन पाऊंगा.
आमीन!

 

अत्याचार के खिलाफ दलितों का ऐतिहासिक विरोध

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-