americanwoman

अमेरिका में एक महिला को दूसरी महिला के गर्भ में बच्‍चे को काटने के जुर्म में 100 साल कैद की सजा सुनाई गई है। इस अपराध से पूरा देश सदमे में है। फरवरी में 35 वर्षीय डायनेल लेन को उसके खिलाफ लगे सात आरोपों में दोषी पाया गया था।

लेन पर हत्‍या की कोशिश और गैरकानूनी तरीके से गर्भपात करने का भी आरोप था। दोनों ही आरोपों में जो अधिकतम सजा सुनाई जा सकती थी, वह शुक्रवार को 100 साल की जेल के रूप में सुना दी गई।

लेन ने सात महीने की गर्भस्‍थ मिशेल विलकिन्‍स को बहला-फुसलाकर मार्च 2015 में अपने घर बुला लिया था। इसके बाद उसने विलकिन्‍स को पीटा और चाकू मारे और उसके फ्यूटस (अजन्‍मे बच्‍चे) को चुरा लिया, जो बाद में मर गया।

इस हमले के बाद बची विलकिन्‍स ने कोर्ट को बताया कि लेन आत्‍मकामी कल्‍पनाओं में जीती हैं। अभियोजन पक्ष ने लेन पर हत्‍या का आरोप नहीं लगाया क्‍योंकि कोरोनर ने बताया कि बच्चा विलकिन्‍स के शरीर के बाहर जिंदा नहीं रह सकता था।

हालांकि, लेन के पति ने कहा कि उन्‍होंने अजन्‍मे बच्‍चे के रोने की आवाज सुनी थी। बोल्‍डर डिस्ट्रिक्‍ट जज मारिया ने इस अपराध को बर्बर, चौंकाने वाला और निर्दयी अपराध करार दिया। उन्‍होंने कहा कि यह सोचना भी नामुमकिन है कि कोई ऐसा भी कर सकता है।

लेन उस अजन्‍मे भ्रूण को लेकर हमले की शाम को ही अस्‍पताल गई थी और उसने वहां डॉक्‍टरों को बताया कि उसका गर्भपात हो गया था। मगर, डॉक्‍टरों को उसकी बात पर यकीन नहीं हुआ और इसके बाद उसे गिरफ्तार कर लिया गया था।

 

अजन्‍मे बच्‍चे की हत्‍या करने पर महिला को 100 साल जेल की सजा

| देश विदेश | 0 Comments
About The Author
-