नई दिल्ली. समाजवादी पार्टी में चल रहे दंगल के लिए शनिवार का दिन बेहद अहम है। सुलह की कोशिशों के बीच यह भी कहा जा रहा है कि मुख्यमंत्री अखिलेश यादव आज अलग होने का आधिकारिक ऐलान कर सकते हैं।

इसी तरह के संकेत मुलायम सिंह के खेमे से भी हैं। मुलायम के प्रेस कॉन्फ्रेंस करने और अखिलेश से अलग होकर चुनाव लड़ने की घोषणा करने की अभी अटकलें हैं।

इस बीच, दस्तावेजी सुबूतों के मामले में समाजवादी पार्टी का अखिलेश गुट किसी तरह कमजोर नहीं पड़ना चाहता। इसीलिए यह गुट शनिवार को डेढ़ से पौने दो लाख पन्नों के दस्तावेज के साथ केंद्रीय निर्वाचन आयोग के दफ्तर पहुंचेगा।

इस दस्तावेज को ले जाने के लिए बड़े वाहन (ट्रक) के प्रवेश की अनुमति भी ली जाएगी। उसकी पूरी कोशिश चुनाव चिह्न साइकिल और समाजवादी पार्टी संगठन पर अधिकृत कब्जा जमाने की है। सपा का यह गुट अपने पार्टी प्रतिनिधियों की चुनाव आयोग के समक्ष परेड कराने तक को तैयार है।

सुबूतों के लिए दस्तावेजों की प्रतियां बनाने की मैराथन तैयारी चल रही है। समाजवादी पार्टी के सभी प्रतिनिधियों (डेलीगेट) के हलफनामे तैयार कराए गए हैं। सांसद और विधायकों के साथ उनकी कुल संख्या पांच हजार से अधिक हो रही है। चुनाव आयोग ने सभी हलफनामों की सात प्रतियां प्रस्तुत करने को कहा है।

साथ ही इन सभी दस्तावेजों की एक प्रति पार्टी के दूसरे गुट के नेता यानी मुलायम सिंह यादव को सौंपी जानी है। दो प्रतियां पार्टी खुद के पास रखेगी। पार्टी ने उत्तर प्रदेश के सभी जिलों के पार्टी संगठन से अपने प्रतिनिधियों के हलफनामे मंगा लिए हैं।

इन सभी ने लखनऊ में मुख्यमंत्री अखिलेश गुट की ओर से बुलाए अधिवेशन में हिस्सा लिया था। इस दौरान पारित प्रस्तावों के पक्ष में हाथ उठाकर समर्थन किया था। चुनाव आयोग में जमा कराए जाने वाले प्रत्येक हलफनामे में तीन पन्ने हैं।

पहला पन्ना स्टांप पेपर है, जबकि दो अन्य पन्नों पर प्रतिवेदन है। प्रतिवेदन के साथ हलफनामे के इन दस्तावेजों को तैयार करने के लिए कई जीरॉक्स मशीनें पूरी रात चलेंगी। मुलायम सिंह यादव को भी शनिवार को ही यह प्रति उनके आवास पर सौंपी जाएगी। उन्हें यह दस्तावेज देने के लिए जाने वाले नेताओं के नाम तय नहीं हुए हैं।

बता दें कि पार्टी प्रतिनिधियों का चयन जिला स्तर पर सदस्यता के आधार पर होता है, जो कुल सक्रिय सदस्यों का 10 फीसद होता है। पार्टी अधिवेशन में उनकी खास अहमियत होती है।

अखिलेश यादव आज अलग होने का आधिकारिक ऐलान कर सकते हैं

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-